Corona_UpdatesJharkhandRanchiTOP SLIDER

त्योहारों को लेकर जारी गाइडलाइन का हो सख्ती से पालन, अभी थोड़ी सी लापरवाही से स्थिति हो सकती है विस्फोटकः हाइकोर्ट

Ranchi : झारखंड हाइकोर्ट ने सरकार को त्योहारों को लेकर जारी गाइडलाइन का अभी से ही सख्ती से पालन कराने का निर्देश दिया है. अदालत ने कहा कि सरकार ने गाइड लाइन तो जारी कर दिया है, लेकिन इसका पालन नहीं हो रहा है. बाजारों में भीड़ है और बिना मास्क के लोग दिख रहे हैं. अभी थोड़ी भी लापरवाही बरती गयी तो स्थिति विस्फोटक हो सकती है.

बिना मास्क के घूमनेवालों पर सरकार को सख्ती दिखानी चाहिए और एसओपी के अनुसार जुर्माना भी वसूलना होगा. दूसरे राज्यों में कोरोना के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. लोगों को भी खुद एहतियात बरतनी होगी. यह समझना होगा कि अभी कोरोना समाप्त नहीं हुआ है.

कोरोना से निपटपने के मामले पर स्वत: संज्ञान लिए मामले की सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत ने यह निर्देश दिया.

advt

इसे भी पढ़ें:T20 World Cup का Theme Song लांच, विराट-पोलार्ड, राशिद-मैक्सवेल दिखे नए अवतार में, देखें VIDEO

50 प्रतिशत क्षमता के साथ धार्मिक स्थलों को खोलने का आदेश

सुनवाई के दौरान सरकार की ओर से बताया गया कि त्योहारों के लिए सरकार ने गाइडलाइन जारी कर दिया है. लोगों से इसका पालन कराया जायेगा. धार्मिक स्थलों को भी 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खोलने का आदेश दे दिया गया है. पूजा पंडालों समेत अन्य आयोजनों में भीड़ जमा नहीं होने दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें: केंद्र सरकार ने बदला पारिवारिक पेंशन का नियम, अब नाबालिग को भी इन स्थितियों में मिलेगी राशि

रांची में बच्चों के लिए 9500 आइसीयू बेड तैयार किये गये हैं

सरकार की ओर से बताया गया कि कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी की गयी है. राज्य के सभी जिलों में शिशु रोग विभाग को सक्रिय कर दिया गया है. बेड तैयार कर लिये गये हैं और जरूरी उपकरण तैयार हैं. तीसरी

लहर में विशेषज्ञों ने बच्चों के अधिक प्रभावित होने की आशंका जतायी है. इसे देखते हुए सभी जिलों के अस्पतालों में शिशु वार्ड को दुरुस्त किया गया है. रांची में बच्चों के लिए 9500 आइसीयू बेड तैयार किये गये हैं.

इसे भी पढ़ें: मंत्री आलम ने कहा- मनरेगा में कागजों पर हो रहा काम, मनरेगा कर्मचारी महासंघ खफा, जारी किया श्वेत पत्र

नर्सों और पारा मेडिकलकर्मियों को प्रशिक्षण भी दिया गया है. अस्पतालों में डॉक्टरों की प्रतिनियुक्ति की सूची भी तैयार कर ली गयी है. अस्पतालों से जरूरत के अनुसार डॉक्टर, पारा मेडिकलकर्मी, नर्स और अन्य संसाधन उपलब्ध कराये जायेंगे.

ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए अधिकारियों की जवाबदेही भी तय कर दी गयी है. इस पर अदालत ने दो सप्ताह में प्रगति रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ें: रांची-पटना एनएच को जल्द ही चलने लायक बनायें- झारखंड हाइकोर्ट ने NHAI को दिया निर्देश

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: