न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राज्यपाल ने एडीजी अनुराग गुप्ता और प्रोफेसर विश्वास की पुस्तक का विमोचन किया

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के विषय में पाइथॉन प्रोग्राम अमेरिका, यूरोप जैसे देशों में तेजी से प्रचालित होता जा रहा है.

162

Ranchi :  झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने रविवार को राजभवन में सीआईडी के एडीजी अनुराग गुप्ता और आईएसएम धनबाद के प्रोफेसर जीपी विश्वास के द्वारा लिखित पुस्तक पाइथॉन प्रोग्रामिंग प्रॉब्लम सॉल्विंग पैकेजेस एंड लाइब्रेरीज का विमोचन किया. राजभवन में पुस्तक विमोचन समारोह में झारखंड के डीजीपी केएन चौबे समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें : बैंककर्मियों ने किये थे एसबीआई के एटीएम से 51लाख रुपये गायब, चार आरोपी गिरफ्तार

मील का पत्थर साबित होगी यह किताब

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के विषय में पाइथॉन प्रोग्राम अमेरिका, यूरोप जैसे देशों में तेजी से प्रचालित होता जा रहा है. भारत में भी इसका धीरे-धीरे प्रचलन बढ़ता जा रहा है. किंतु इस विषय की पुस्तकें  बाजार में उपलब्ध नहीं है. छात्रों को पाइथॉन  पढ़ने के लिए इंटरनेट रिसोर्स पर ही निर्भर रहना पड़ता था. इस किताब के प्रकाशित होने के बाद पाइथॉन प्रोग्राम पढ़ने और समझने के लिए यह किताब मील का पत्थर साबित होगी.

  किताब लिखने के लिए लेखकों ने की 4 वर्ष कड़ी मेहनत

सीआईडी के एडीजी अनुराग गुप्ता और आईएसएम धनबाद के प्रोफेसर जीपी विश्वास ने इस किताब को लिखने के लिए 4 वर्षों तक कड़ी मेहनत की. किताब अमेरिका के मेजर पब्लिशर एमसी ग्रौ हिल के द्वारा प्रकाशित की जा रही है.  कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग पढ़ाने वाले सभी कॉलेजों के कोर्स में किताब शामिल किये जाने की संभावना है. पाइथॉन  बहुत ही लोकप्रिय कंप्यूटर भाषा है और यह बहुत सरल है . बच्चे भी इसे सीख सकते हैं.  लोकप्रियता के इंडेक्स पर पाइथन का तीसरा नंबर है.  दिन प्रतिदिन इसकी लोकप्रियता बढ़ती जा रही है. सीबीएसई ने भी इसे 11 वीं और 12 वीं के पाठ्यक्रम में शुरू किया है.

पाइथॉन भाषा  इंजीनियरिंग के  अलावा मैथ, फिजिक्स और बायोटेक जैसे विषयों में भी प्रयोग की जा सकती है. एडीजी अनुराग गुप्ता का लक्ष्य है कि बच्चे भी  पाइथॉन सीखें. अनुराग गुप्ता का उद्देश्य है कि भविष्य में स्कूलों के छात्र खासकर दिन में बच्चियों को पाइथॉन सिखाये. इस कार्य के लिए भविष्य में रांची और बाहर में भी वर्कशॉप की योजना बनायी जा रही है.

इसे भी पढ़ें : पीएम आवास योजना के तहत बन रहे मकान को दबंगों ने तोड़ा, अपनी जमीन होने का दावा किया

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: