न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आदिवासियों की जमीन छीन पूंजीपतियों को देने की साजिश रच रही है सरकार : रमा खलखो

कोलेबिरा स्थित नगर भवन में आदिवासी कांग्रेस के तत्वावधान में विरोध सभा का आयोजन किया गया.

367

Simdega : कोलेबिरा स्थित नगर भवन में आदिवासी कांग्रेस के तत्वावधान में विरोध सभा का आयोजन किया गया. इस मौके पर पूर्व राज्यसभा सांसद प्रदीप बालमुचु एवं लोकसभा कोर्डिनेटर रमा खलखो मुख्य रूप से उपस्थित थे. कार्यक्रम की अध्यक्षता आदिवासी कांग्रेस के जिला अध्यक्ष विक्सल कोंगाड़ी ने की. सभा को संबोधित करते हुए   रमा खलखो ने कहा कि राज्य की भाजपा सरकार आदिवासियों, दलितों व अल्पसंख्यकों को आपस में लड़ाने का काम कर रही है.

इसे भी पढ़ेःराज्य के वरिष्ठ आईएएस का छलका दर्द, कहा- मंत्री गंभीर विषयों को सुनना ही नहीं चाहते

सरकार ने फूट डालो राज्य करो वाली नीति अपनायी है

hosp3

सरकार ने फूट डालो राज्य करो वाली नीति अपनायी है. उन्होंने कहा कि सरकार आदिवासियों की जमीन को छीन कर पूंजीपतियों को देने की साजिश रच रही है.हमें सजग रहने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ही एक ऐसी पार्टी है जो आदिवासियों का हक दिला सकती है. पूर्व राज्यसभा सांसद प्रदीप बालमुचु ने कहा कि भाजपा हमें आपस में लड़ा कर सत्ता में रहना चाहती है.  झारखंड अलग राज्य के लिये कांग्रेसियों ने लड़ाई लड़ी थी. किंतु इसका श्रेय भाजपा लेने का प्रयास कर रही है.

इसे भी पढ़ें- रांची का ऐसा परिवार जिसके हर सदस्य को वाजपेयी ने दिया है नाम

भाजपा को राज्य से उखाड़ फेंकना होगा

हमें संगठित हो कर भाजपा को राज्य से उखाड़ फेंकना होगा .उन्होंने यह भी कहा कि कोलेबिरा में होने वाले उप चुनाव में महा गठबंधन का जो भी प्रत्याशी होगा उसे विजयी बनायें. इस अवसर पर प्रदेश आदिवासी कांग्रेस के उपाध्यक्ष बेंजामिन लकड़ा, गुमला जिला अध्यक्ष रोशन बरवा आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किये.

इस अवसर पर मुख्य रूप से पूर्व जिला अध्यक्ष रामनारायण सिंह रोहिल्ला,मो समी आलम,रावेल लकड़ा, खुशी राम कुमार,प्रो रंजीत चौधरी, प्रो रोशन टेटे, अजीत कंडूलना, अजीत लकड़ा, अनूप लकड़ा,दिलीप तिर्की, जमीर खान,कोलेबिरा प्रभारी नोमिता बा, सुनील सुरीन,सुनील खड़िया, श्यामलाल प्रसाद, सीमा सीता एक्का,रोश प्रतिमा सोरेंग, स्टेला तिर्की,मनोज जायसवाल, डीडी सिंह,जोनसन मिंज के अलावा काफी संख्या में  ग्रामीण उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ेंःराज्य में बाघों की संख्या बन गयी है पहेली, वन विभाग को पता ही नहीं प्रदेश में कितने बाघ हैं

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: