JharkhandLead NewsRanchi

सरकार ने जो वादा किया, उसे निभाया, भाजपा ने किसानों के लिए क्या कियाः कृषि मंत्री

♦सरकार ने कोरोना काल में भी जीवन बचाने के साथ-साथ जीविका चलाने का भी काम किया

Ranchi: राज्य के कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि सरकार ने जो वादा किया उसे निभाया भी है. सरकार किसानों के साथ पूरी तन्मयता के साथ खड़ी है. सरकार ने कोरोना काल में जीवन बचाने के साथ-साथ जीविका चलाने का भी काम किया. लेकिन, पिछले 18 सालों तक भाजपा की सरकार रही क्या किसानों का एक रुपया भी माफ किया? कर्ज माफी के आंकड़े हैं तो बताये. भाजपा का शुक्रगुजार हूं कि कोरोना काल में घरों में दुबके रहने के बाद आज किसानों की याद आयी. मंत्री बादल पत्रलेख शुक्रवार को कांग्रेस भवन कार्यालय में पत्रकारों से बात कर रहे थे. उन्होंने कहा कि तीन सालों तक 493 करोड़ प्रीमियम लेकर गये और एवज में मात्र 79 करोड़ ही मिले, उस वक्त ये संवेदनशीलता कहां गयी थी.

इसे भी पढ़ें – 12 वें मंत्री को लेकर झामुमो–कांग्रेस के टकराव पर मुख्यमंत्री ने लगाया विराम, बोर्ड-निगम और 20 सूत्री को लेकर सत्ताधारी दल में शीतयुद्ध जारी

advt

खाद की कालाबाजारी के लिए कमेटी बनायी गयी है

मंत्री ने कहा कि खाद की कालाबाजारी की जांच के लिए विभागीय स्तर पर कमेटी बना दी गयी है. अधिकारियों को दिशा-निर्देश भी दे दिये गये हैं.

मैं खुद किसान का बेटा हूं, दर्द जानता हूं

मंत्री ने कहा कि वे खुद किसान के बेटे हैं इसलिए किसानों के दर्द को नजदीक से जानते हैं. किसानों की बेहतरी के लिए सरकार पूरी तन्मयता के साथ खड़ी है और खड़ी रहेगी.

adv

भाजपा बताये उनके कार्यकाल में धान की कितनी खरीदारी हुई

धान खरीद के बकाया भुगतान के मसले पर राजनीति कर रहे भाजपा नेताओं को यह बताना चाहिए कि उनके कार्यकाल में धान की कितनी खरीदारी हुई और कितनी राशि एमएसपी तथा बोनस के रूप में किसानों को दी गयी. जबकि गठबंधन सरकार में 2020-21 में धान की रिकॉर्ड खरीदारी हुई. धान खरीद के लिए राज्य सरकार की नोडल एजेंसी झारखंड राज्य खाद्य निगम की ओर से वर्ष 2020-21 में 60.85 लाख टन धान अधिप्राप्ति का लक्ष्य रखा गया था, जिसके विरुद्ध 62.41 लाख टन धान की खरीद की गयी जो 102 प्रतिशत है. पिछले वर्ष की तुलना में काफी अधिक है. इसके एवज में राज्य सरकार को 943.21 करोड़ एमएसपी और बोनस के रूप में भुगतान करना था. इसके एवज में राज्य सरकार की ओर से 568.50 करोड़ का भुगतान कर दिया गया है और किसानों के पूर्ण भुगतान के लिए 374.71करोड़ की आवश्यकता है.

इसे भी पढ़ें – बिहार का चिराग संकट में, बड़े भाई बोलने वाले तेजस्वी क्यों हैं खामोश।

2 लाख 46 हजार 012 किसानों का कर्ज माफ किया

उन्होंने कहा कि गठबंधन सरकार ने अपने वायदे के मुताबिक 2 लाख 46 हजार 012 किसानों का कर्ज माफ किया है. कर्ज चुकाने के लिए राज्य सरकार की ओर से 980.06 करोड़ रुपये बैंकों को दिये गये हैं. बैंकों से मिले आंकड़े के अनुसार कुल 9.02 लाख किसानों ने ऋण लिया है, जिसमें से अब तक 5.61 लाख किसानों का डाटा अपलोड किया गया है, जल्द ही शेष किसानों की कर्ज माफी की प्रक्रिया पूरी कर ली जायेगी.

लक्ष्य से ज्यादा हुई धान की खरीद

मंत्री ने कहा कि धान खरीद के मसले पर नौटंकी करनेवाले भाजपा नेताओं को यह पता होना चाहिए कि खरीफ विपणन मौसम 2020-21 में झारखंड राज्य खाद्य निगम द्वारा 21 जिलों में तथा भारतीय खाद्य निगम द्वारा 3 जिलों में धान की खरीदारी की गयी. राज्य खाद्य निगम को 44,85,000 क्विंटल धान खरीद का लक्ष्य दिया गया था, जिसके विरुद्ध 46,01,039 क्विंटल धान क्रय कर लिया गया, जो निर्धारित लक्ष्य का 102 प्रतिशत है.

ये लोग थे मौजूद

प्रेस कांफ्रेंस में केशव महतो कमलेश, रमा खलखो, आलोक कुमार दुबे, डॉ राजेश गुप्ता छोटू, लाल किशोर नाथ शाहदेव, राजीव रंजन के अलावा कई जिलों के जिलाध्यक्ष मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें – खाद्य तेलों की बढ़ती कीमतों पर जल्द लगेगी लगाम, जानिए कैसे मिलने जा रही है आपको बड़ी राहत!

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: