न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

करोड़ों की लागत से स्‍कूल भवन बनवाकर भूल गयी सरकार, खंडहर में तब्‍दील  

33

Lohardaga : लोहरदगा जिले में सरकारी राशि की बर्बादी चरम पर है. या यूं कहें सरकारी तंत्र की उदासीनता. जो भी हो, करोड़ों के भवन सालों से बनकर तैयार हैं, लेकिन इन भवनों का उपयोग नहीं हो पा रहा है. जिसकी वजह से सरकारी राशि  का सही से उपयोग नहीं हो पा रहा है.

यह शिक्षा विभाग की दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है. यहां पर बने विद्यालय भवन उद्घाटन का इंतजार कर रहे हैं. जिले के सेन्हा प्रखंड के बदला गांव, भंडरा प्रखंड के अकाशी गांव सहित करीब दर्जन भर स्थानों में उत्क्रमित उच्च विद्यालयों के लिए भवन पिछले दो सालों से बन कर तैयार खड़े हैं. इन भवनों का उपयोग नहीं हो पा रहा है. जिसकी वजह से भवन अब धीरे-धीरे कर खंडहर में तब्दील हो रहे हैं. भवनों का उपयोग नहीं होने से यहां पर असामाजिक तत्वों का अड्डा जमने लगा है.

स्‍कूल भवन होने के बाद भी बच्‍चे जाते हैं कोसो दूर

भवन बनने से स्थानीय लोग खुश तो हैं, पर उनके चेहरे पर एक सवालिया निशान नजर आता है. लोग कहते हैं कि भवन बन गया है तो यह अच्छी बात है. उनके बच्चों को फायदा ही होगा. भवन का उपयोग जल्द शुरू होना चाहिए. स्थानीय निवासियों का कहना है कि भवन तैयार होने से यहां के बच्चों को काफी फायदा मिलेगा. अब जल्द से जल्द विभाग को भवन में विद्यालय संचालित करना चाहिए. इससे उनके बच्चों को यहां वहां भटकना नहीं पड़ेगा. स्थानीय लोग इस बात को लेकर नाराज हैं कि उनके गांव-टोले में विद्यालय भवन होने के बावजूद बच्चों को पढ़ने के लिए कई किलोमीटर दूर जाना पड़ता है. लंबा सफर तय करने की वजह से हमेशा खतरा बना रहता है. सरकार और विभाग इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा.

जिला शिक्षा पदाधिकारी रतन कुमार महावर कहते हैं कि कुछ भावना को शुरू नहीं किया जा सका है. इस बारे में उन्हें जानकारी है. जल्द ही इन भवनों का उपयोग सुनिश्चित किया जाएगा. कहीं कोई परेशानी नहीं है. वे इस बारे में पहल कर रहे हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: