LITERATURE

काफ्का की प्रतिभा को सबसे पहले पहचानने वाली वो लड़की

Ashok Pandey

Advt

 

फ्रान्ज़ काफ़्का के दो भाई बचपन में ही मर गए थे. उसकी तीन बहनें – गाब्रीएल, वाली और ओतला – हिटलर की नाज़ी यंत्रणा शिविरों में मार डाली गयीं. नौ साल छोटी और सबसे छोटी ओतला शुरू से ही उसकी सबसे प्यारी रही.

भाई-बहन का यह सम्बन्ध बेहद अन्तरंग था. वे अक्सर एक दूसरे को चिठ्ठियां लिखा करते. काफ़्का का जीवन उसके लेखन की ही तरह बेहद जटिल और मुश्किल था लेकिन वह अपनी हर बात ओतला के साथ साझा कर पाता था. तीस साल की आयु में काफ़्का को टीबी हो जाने के बाद इस बहन ने ही मृत्युपर्यन्त उसकी देखभाल की.

काफ़्का के गंभीर बीमार हो जाने पर वह उसे अपने साथ बोहेमिया के छोटे से कस्बे ज़ुराऊ में ले आती जहां उसका घर था. यहां वह अपनी बेटियों वेरा और हेलेना के साथ रहती थी. अपने लेखन में एक से अधिक बार काफ़्का ने ज़ुराऊ में बिताये समय को अपने जीवन का सबसे अच्छा समय बताया है जहां ओतला सुनिश्चित करती थी कि उसके भाई के रहने-खाने के आराम के अलावा जरूरी दवाइयां और लिखने के लिए हर संभव सुविधा उपलब्ध रहे. अक्सर शामों को वह उसे प्लेटो पढ़कर सुनाता जबकि ओतला उसे पियानो पर गाना सिखाती.

काफ़्का के जीवनकाल में उसके लेखन की महानता को पहचान सकने वाले मुठ्ठी भर लोगों में ओतला भी थी.

ओतला ने शुरुआत से ही एक साहसी महिला होने के लक्षण दिखाना शुरू कर दिया था जब सोलह साल की आयु में उसने खेती से सम्बंधित एक ऐसे कोर्स में दाख़िला लिया जिसे करने वालों में वह इकलौती महिला थी. कोर्स मुश्किल था लेकिन फ्रान्ज़ की मदद से वह उसे आसानी से पूरा कर सकी. उसने अपने पिता की मर्जी के खिलाफ एक कैथोलिक व्यक्ति से शादी की और ज़ुराऊ में एक फ़ार्म का प्रबंधन करने लगी.

3 जून 1924 को चालीस साल की आयु में जब काफ़्का मरा, समूचा यूरोप पहले विश्वयुद्ध के प्रभावों से जूझ रहा था. भोजन और रोजगार की विकट कमी के उस दौर में ओतला ने कड़ी मेहनत की. भाई के जाने का गम पीकर उसने अपने परिवार के लिए जरूरी चीज़ें जुटाईं.

खामोश और रिजर्व स्वभाव की ओतला की असल ताकत का अंदाजा दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान लगा. 1942 के आते आते हिटलर का पागलपन चरम पर पहुँच गया था. यहूदियों को चुन-चुन कर यंत्रणा शिविरों में पहुँचा कर मारा जा रहा था. ओतला यहूदी थी जबकि उसका पति ईसाई. अपने परिवार और बच्चियों को बचाने की खातिर उसने पति से तलाक ले लिया. इसके कुछ ही समय बाद उसे यंत्रणा शिविर में भेज दिया गया. अपने पिता के साथ रह रही उसकी बेटियों ने अधिकारियों से अपील की कि उन्हें भी माँ के पास भेज दिया जाय लेकिन उनकी बात नहीं मानी गयी. नतीजतन वे बच गयीं.

टेरेजिन के यंत्रणा शिविर में ओतला की ड्यूटी उस वार्ड में लगाई गयी जहां पोलैंड से लाए जाने वाले यहूदी बच्चों को रखा जाता था. ओतला का काम मुंडी खोपड़ियों और भयभीत आँखों वाले इन बच्चों को नहलाने-धुलाने का था. इन बच्चों को कैम्प के बाकी लोगों से मिलने नहीं दिया था. ओतला को भी उनके बारे में किसी से कुछ कहने पर प्रतिबन्ध था. इनमें से कुछ बच्चों के साथ उसके मधुर सम्बन्ध बनने लगे थे जब 1943 के एक दिन इस बच्चों को ट्रकों में भरकर आउसविट्ज़ के उस बदनाम कैम्प में ले जाए जाने का फैसला हुआ जहां नहलाने के बहाने लोगों को शावर चैम्बरों में जहरीली गैस से मारा जाता था. ओत्ला आउसविट्ज़ की खौफ़नाक कहानियों के बारे में जानती थी. उसने नाज़ी अफसरों से कहा कि वह बच्चों आउसविट्ज़ पहुँचने तक उनके साथ रहना चाहती है. आउसविट्ज़ पहुँचते ही सारे बच्चों समेत ओतला की हत्या कर दी गई.

अपने आखिरी सालों में काफ़्का का लेखन इस कदर परिपक्व हो चुका था कि लगता उसका लिखी हर बात मानव सभ्यता में पहली बार कही जा रही हो. रूखा होने के बावजूद उसके गद्य का जटिल संसार सम्मोहक है. उसकी किताबों में ईश्वर कहीं नहीं मिलता लेकिन मुझ जैसे उसके प्रेमियों के लिए वह खुद किसी ईश्वर जैसा है.

काफ़्का के गद्य के इस रूखे, ईश्वरहीन संसार में सबसे अधिक रोशनी उसकी किताब ‘ज़ुराऊ अफोरिज्म्स’ में दिखाई देती है. ओतला न होती तो यह किताब न होती. अपने भाई की जैसी देखभाल उसने की उसकी दास्तानें पढ़कर अहसास होती है कि ओतला न होती तो शायद न ग्रेगोर साम्सा रचा जा सकता था न काफ़्का वे महान उपन्यास. और अगर ग्रेगोर साम्सा न रचा जाता तो शायद जैसा गाब्रीएल गार्सिया मारकेज ने कहा है वे खुद ज़िंदगी भर पत्रकार ही बने रहते. तब न एकाकीपन के सौ साल होते न गाबो मार्केज़ का तितलियों भरा जादुई संसार.

 

(फोटो: फ्रान्ज़ काफ़्का और ओतला)

(अशोक पांडेय का ये लेख उनके एफबी वाल से लिया गया है)

 

 

Advt

Related Articles

Back to top button