DhanbadJharkhand

नाव पर निकली शव यात्रा, अंतिम संस्कार के लिए नहीं मिल सकी दो गज जमीन

Darbhanga: बिहार में लगातार कई हिस्सों में बाढ़ का कहर जारी है. बिहार में बाढ़ की विभीषिका के दौरान कई तस्वीरें सामने आई है जहां लोग जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष करते नजर आए.
एक ऐसी ही तस्वीर दरभंगा से सामने आई जहां बाढ़ के पानी से घिरने के बाद मुश्किल से एक शख्स का अंतिम संस्कार हो सका है.

इसे भी पढ़ें :IAS की FIR नहीं हुई तो बिगड़े जीतन राम मांझी, सरकार से पूछे सवाल

दरभंगा के कुशेश्वर स्थान की यह तस्वीर है जहां बाढ़ का पानी हर साल अपने साथ तबाही लाता है यह इलाका बाढ़ के समय 6 महीना तक पानी में डूबा हुआ रहता है जहां नजर जाती है सिर्फ पानी ही पानी नजर आता है. दरभंगा के कुशेश्वर प्रखंड में एक 90 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई जिसके बाद परिवार के साथ ग्रामीणों के सामने अंतिम संस्कार की समस्या उत्पन्न हो गई क्योंकि पूरा इलाका जलमग्न है गांव के श्मशान में भी पानी ही पानी नजर आ रहा है. गांव में ऐसी कोई व्यवस्था नहीं जहां अंतिम संस्कार किया जा सके.

ऐसे में ग्रामीणों ने मजबूरी में एक तरकीब निकाली और गांव से सटे शमशान के बीच मझधार में बांस का चचरी बनाया और उसे पानी में खूंटी के सहारे खड़ा किया इसके ऊपर मिट्टी से बना गोल घेरा रख कर उसके अंदर शव रख दिया और फिर ऊपर से लकड़ी रख दिया गया इसके बाद ग्रामीणों के द्वारा गाजे-बाजे के साथ अंतिम सफर के लिए निकाला गया.
शमशान के पास पहुंचकर इसी मिट्टी के गोल घेरे में बुजुर्ग का अंतिम संस्कार किया गया. दरभंगा के इस तस्वीर दिखाने के लिए काफी है कि दरभंगा के कुशेश्वर स्थान पर जो लोग रह रहे हैं बाढ़ के समय में उनकी जिंदगी कैसे गुजरती है.

इसे भी पढ़ें :नगर विकास के 12 पदाधिकारियों का स्थानांतरण व पदस्थापन

Related Articles

Back to top button