JharkhandRanchi

पानी का बहाव तेज, कांची नदी पर धंसे पुल की जांच नहीं हो पायी शुरू

Ranchi: कांची नदी पर धंसे पुल की जांच अभी तक शुरू नहीं हुई है. पुल धंसने के कारणों की जांच के लिए गठित अभियंताओं की टीम अब तक स्थल निरीक्षण नहीं कर सकी है.

इंजीनियरों के अनुसार कांची नदी में पानी का बहाव काफी तेज है, इस वजह से अभी वहां जांच करने में दिक्कतें आएंगी. मानसून भी झारखंड में प्रवेश कर गया है. ऐसे में भारी बारिश होने से नदी में और पानी बढ़ जाएगा.

इसे भी पढ़ें :दीदी गार्डन से महिलाओं को मिलेगा रोजगार, हर प्रखंड में दो योजना शुरू करने का लक्ष्य

advt

हालांकि जांच कमेटी ने विशेष प्रमंडल से पुल निर्माण से जुड़े सारे दस्तावेज उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है. विशेष प्रमंडल के अभियंताओं ने पुल से संबंधित कुछ जानकारियां कमेटी को दी हैं. उम्मीद जताई जा रही है कि सोमवार के बाद सारी सूचनाएं उच्च स्तरीय कमेटी को दे दी जाएंगी. उनके डीपीआर आदि के अवलोकन के बाद ही अब अभियंताओं की टीम स्थल निरीक्षण को जाएगी.

बरसात के मौसम में निरीक्षण करना संभव नहीं लग रहा क्योंकि अधिक पानी होने की वजह से पुल के नीचे कितना गहरा गड्ढा हुआ है या नहीं पता चल जाएगा.

इसे भी पढ़ें :समाहरणालय का हालः आग लगे तो भगवान ही मालिक

बता दें कि मई के अंतिम सप्ताह में यास तूफान के असर के कारण कांची नदी में पानी के तेज बहाव से पुल धंस गया था. उस वक्त यह बात सामने आयी कि बालू माफियाओं के द्वारा अत्याधिक बालू के उठाव की वजह से पुल कमजोर हो गया. गुणवत्ता पर भी सवाल खड़ा हुआ. सरकार ने पूरे मामले को गंभीरता से लिया और पथ निर्माण विभाग के अभियंता प्रमुख की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी गठित की. एक माह के अंदर इस कमेटी को फुल धंसने के कारणों की जांच कर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया.

कमिटी पुल की गुणवत्ता की जांच करेगी. पुल धंसने के कारणों की पूरी वजह बताने के बाद दोषी अभियंताओं और संवेदकों पर भी कार्रवाई की अनुशंसा की जाएगी.

बता दें कि कांची नदी पुल तीन साल पहले ही बना था. ग्रामीण विकास के विशेष प्रमंडल ने 13 करोड़ में बनवाया. पुल धंसने की वजह से ग्रामीणों को आवागमन में काफी परेशानी भी हो रही है.

इसे भी पढ़ें : MS DHONI की CSK के खिलाड़ी के चयन पर पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने उठाया सवाल

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: