न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

 सीबीआई निदेशक चुनने की कवायद, कई आईपीएस रेस में, मुंबई पुलिस कमिश्नर जायसवाल डार्क हॉर्स

सीबीआई का नया निदेशक कौन होगा, यह चर्चा राजनीतिक गलियारेां में गर्म है. इसकी प्रक्रिया शुरू हो चुकी है.  कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) सीबीआई के नये निदेशक की तलाश तेज कर दी है.

20

  NewDelhi :  सीबीआई का नया निदेशक कौन होगा, यह चर्चा राजनीतिक गलियारेां में गर्म है. इसकी प्रक्रिया शुरू हो चुकी है.  कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) सीबीआई के नये निदेशक की तलाश तेज कर दी है. बता दें कि डीओपीटी महानिदेशक स्तर के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के 10 अधिकारियों में से अंतिम नाम छांट रहा है. सूची में 1983, 1984 और 1985 बैच के आईपीएस अधिकारी शामिल किये गये हैं. सूत्रों के अनुसार सीबीआई निदेशक पद की दौड़ में 1985 बैच के आईपीएस अधिकारी और मुंबई पुलिस आयुक्त सुबोध कुमार जायसवाल, उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के प्रमुख वाईसी मोदी रेस में हैं. जानकारी के अनुसार डीओपीटी तीन-चार अधिकारियों के नाम सीबीआई निदेशक पद के लिए चुनेगी. उसके बाद  सभी नाम चयन समिति के पास भेजे जायेंगे. इसके बाद तीन सदस्यीय चयन समिति दो साल के तय कार्यकाल के लिए इनमें से एक नाम पर अंतिम मुहर लगायेगी.

SC द्वारा 2004 में तय दिशानिर्देशों का पालन किया जायेगा

बता दें कि चयन समिति प्रधानमंत्री, भारत के प्रधान न्यायाधीश और लोकसभा में कांग्रेस के नेता शामिल हैं. जान लें कि आलोक वर्मा का कार्यकाल 31 जनवरी को समाप्त होने वाला था. लेकिन वे समय से पहले हटा दिये गये. सूत्रों के अनुसार नये नाम की घोषणा इस माह के अंतिम सप्ताह या उससे पहले हो सकती है.  गृह मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार डीओपीटी को दिसंबर 2018 में सीबीआई निदेशक के चयन के लिए 17 अधिकारियों की सूची दी गयी है. सूत्रों के अनुसार भ्रष्टाचार निरोध के मामलों की जांच में अधिकारियों का अनुभव, सीबीआई में पहले कार्य करने का अनुभव, काडर में सतर्कता के मामलों का निष्पादन और उनकी निष्ठा के आधार पर सूची  बनाई जाती है. SC द्वारा 2004 में तय दिशानिर्देशों के अनुसार, आईपीएस के चार सबसे पुराने बैच के सेवारत अधिकारी सीबीआई निदेश्क पद के दावेदार होंगे. खबरों के अनुसार वरीयता और भ्रष्टाचार निरोधक के मामलों की जांच में अनुभव के कारण अधिकारियों की सूची में 1983 बैच की अधिकारी और गृह मंत्रालय में विशेष सचिव (आंतरिक सुरक्षा) रीना मित्रा, उत्तर प्रदेश के महानिदेशक ओपी सिंह और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के महानिदेशक राजीव राय भटनागर के नाम शामिल हैं.

रीना मित्रा और मोदी के पास सीबीआई में काम करने का लंबा अनुभव

इस क्रम में 1984 बैच के एनआईए प्रमुख मोदी, एनएसजी के महानिदेशक सुदीप लखटकिया, पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के प्रमुख एपी माहेश्वरी, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ क्रिमिनोलोजी एंड फॉरेंसिक साइंस के निदेशक एस जावेद अहमद, सीमा सुरक्षा बल यानी बीएसएफ के महानिदेशक रजनीकांत मिश्रा और भारत-तिब्ब्त सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के प्रमुख एसएस देसवाल शामिल हैं. 1985 बैच के आईपीएस अधिकारी और मुंबई पुलिस आयुक्त सुबोध कुमार जायसवाल भी प्रमुख दावेदार हैं. बताया गया है कि रीना मित्रा और मोदी के पास सीबीआई और भ्रष्टाचार निरोधक शाखाओं में काम करने का लंबा अनुभव है. लेकिन सूत्र बताते हैं कि जायसवाल के नाम पर मुहर लगने की संभावना है. जायसवाल ने रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) में सेवा प्रदान की है और वह मुंबई पुलिस आयुक्त बनने से पहले कैबिनेट सचिवालय में बतौर अतिरिक्त सचिव कार्यरत थे.

इसे भी पढ़ें : सीबीआइ ने चिदंबरम की पत्नी के खिलाफ दाखिल किया आरोपपत्र

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: