BiharSports

सारण के खेल मैदानों में दिखा खिलाड़ियों का भरपूर जोश

Chapra : कोरोना महामारी के कारण घरों में कैद खिलाड़ियों को सरकार ने आखिरकार राहत दी. सरकार द्वारा 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ खेल मैदान में अभ्यास की अनुमति के फैसले से खिलाड़ी खुशी से झूम उठे हैं. सरकार के इस फैसले के बाद गुरुवार की सुबह सारण प्रमंडल के छपरा जिला के खेल मैदानों में रंगीन जर्सी में खिलाड़ियों ने जम कर वार्मअप किया.

जहां वार्मअप करने पहुंचे खिलाड़ियों ने सूर्योदय से पहले मैदान पहुंच कर घास को साफ किया. उसके बाद बारिश से बन गये गड्ढे में मिट्टी डाल कर मैदान को बराबर किया. तो वहीं अन्य कुछ खेल मैदान में बारिश का पानी अधिक जमा होने से कई खिलाड़ियों ने सड़कों पर ही दौड़ लगायी.

महिला-पुरुष वर्ग की खेल प्रतियोगिताओं में पदक जीतने को लेकर खिलाड़ियो में काफी उत्साहित दिखा. इस बीच सभी खेल संघों ने खिलाड़ियों को कोविड टीका लगवाने एवं मास्क का प्रयोग करने का निर्देश भी दिया. हालांकि 18 वर्ष से कम उम्र के कई खिलाड़ी अब भी मैदान नहीं पहुंच रहे. वे टीकाकरण का इंतजार कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :सीएम हेमंत सोरेन के हस्तक्षेप के बाद दिल्ली में ‘बंधक’ झारखंड के 26 बच्चों को मिली आजादी

उधर सारण प्रमंडल के छपरा जिला के खेल मैदान में हैंडबॉल के खिलाड़ियों की तैयारी देखने के लिए प्रशिक्षक संजय कुमार सिंह पहुंचे. इस दौरान उन्होंने फिजिकल फिटनेश पर ध्यान रखने का मंत्र दिया.

साथ ही उन्होंने खेल मैदान में स्पीड वर्क एवं खेल कौशल की बारीकियां सीखने के लिए नियमित रूप से ग्राउंड आने को कहा. उन्होंने खिलाड़ियो को 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ खेल मैदान में जाने वाले निर्देश पर ऑनलाइन मॉनिटरिंग एवं दिशा निर्देश दिया.

इधर सिवान के मैरवा रानी लक्ष्मीबाई आवासीय कोचिंग कैंप में कोच संजय पाठक की देख-रेख में फुटबॉल, हैंडबॉल एवं हॉकी के राष्ट्रीय खिलाड़ियों ने खेल मैदान में खेल कौशल की तरकीब सीखी.

इसके साथ ही बिहार राज्य हैंडबॉल संघ के चेयरमैन और बिहार विधान पार्षद इंजीनियर सच्चिदानन्द राय संत जलेश्वर एकेडमी एवं मशरक प्रखंड कार्यालय स्थित खेल मैदान में खिलाड़ियों एवं प्रशिक्षक से मिले. इस दौरान उन्होंने भी सभी खिलाड़ियों को वैक्सीन लेने एवं कोविड मानकों के तहत अभ्यास करने को कहा.

इसे भी पढ़ें :गंडक ने बढ़ायी लोगों की परेशानी, नहीं मिल रहा खाना और पीने का पानी

क्या कहते हैं खिलाड़ी, प्रशिक्षक एवं पदाधिकारी

खेल को विकसित कर आत्मनिर्भर भारत का सपना साकार होगा. सरकार के साथ-साथ समाज के अग्रणी पंक्ति के लोग भी खिलाड़ियों के लिए आगे आयें जिससे समृद्ध संसाधन के साथ प्रतिभा को उड़ान मिल सके.

इंजीनियर सच्चिदानन्द राय, विधान पार्षद

चेयरमैन, बिहार हैंडबॉल संघ

कोरोना काल मे 15 माह से घर में ऑनलाइन गाइडेंस में वर्क आउट से खिलाड़ी खेल कौशल से वंचित रहे. जिसका नुकसान आगामी राष्ट्रीय प्रतियोगिता में अवश्य होगा. सरकार एवं जिला प्रशासन ने अभ्यास के लिए खेल मैदान एवं जिम खोल कर बेहतर किया है. खिलाड़ी वैक्सीन अवश्य लेकर ही कोविड नियमों का पालन करते हुए अभ्यास करें.

इसे भी पढ़ें :जॉन बारला को केंद्रीय मंत्री बनाना बंगाल के विभाजन को भाजपा का समर्थन : टीएमसी

संजय कुमार सिंह प्रशिक्षक सह सचिव जिला हैंडबॉल

घर पर सिर्फ एक्सरसाइज, डिप्स, बीम एवं स्टेयर से फिटनेस की तैयारी करनेवाले खिलाड़ियो को ग्राउंड में खेल कौशल मिलेगा तब पदक पर निशाना लगेगा.

संजय पाठक, फुटबॉल कोच

संवाददाता- हर्षवर्धन सिंह

इसे भी पढ़ें :एक्ट्रेस तापसी पन्नू ने पर्यावरण संरक्षण की दिशा में उठाया कदम, कचरे से बने कपड़े पहने

Related Articles

Back to top button