न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भोपाल गैस त्रासदी की 34वीं बरसी पर फूंके गये यूनियन कार्बाइड व डाव-डुपोंट के पुतले

21

Bhopal : विश्व की भीषणतम औद्योगिक त्रासदी भोपाल गैस कांड के 34वीं बरसी पर सोमवार को गैस पीड़ितों ने यहां यूनियन कार्बाइड के बंद पडे कारखाने के पास यूनियन कार्बाइड एवं डाव-डुपोंट के पुतले फूंकने के साथ-साथ शहर के कई इलाकों में शोक सभाएं की.

जबतक हमारी ये मांगे पूरी नहीं होंगी, तबतक उनका संघर्ष जारी रहेगा

इस दौरान पीड़ितों ने केंद्र एवं मध्यप्रदेश सरकारों से मांग की कि पीड़ितों को अतिरिक्त न्यायपूर्ण मुआवजा, सही इलाज, रोजगार, पेंशन एवं बीमा दिये जाने के साथ-साथ इस त्रासदी के लिए जिम्मेदार दोषियों को सजा एवं यूनियन कार्बाइड के अहाते में और आसपास जहरीला कचरा साफ किया जाये. गैस पीड़ितों के हितों के लिये पिछले तीन दशकों से अधिक समय से काम करने वाले विभिन्न संगठनों ने कहा कि जबतक हमारी ये मांगे पूरी नहीं होंगी, तबतक उनका संघर्ष जारी रहेगा.

शाहजहानी पार्क में गैस प्रभावितों की शोक सभा

भोपाल गैस पीड़ित महिला उद्योग संगठन के संयोजक अब्दुल जब्बार ने ‘भाषा’ से कहा, ‘‘जबतक भोपाल गैस त्रासदी के दोषियों को सजा नहीं मिल जाती, हमें न्यायपूर्ण और उचित मुआवजा नहीं मिल जाता, सभी गैस प्रभावितों को जबतक बेहतर इलाज नहीं मिल जाता, गैस विधवाओं तथा स्थाई बीमार लोगों को आजीविका पेंशन कम से कम 2,500 रुपया प्रति माह नहीं हो जाती एवं यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री में पड़ा जहरीला रसायन उठा कर वहां पर भोपाल का स्मारक नहीं बना दिया जाता, तबतक हमारा संघर्ष जारी रहेगा.’’ उन्होंने कहा कि आज गैस त्रासदी की 34वीं बरसी पर यादगारे शाहजहानी पार्क में गैस प्रभावितों की शोक सभा हुई, जिसमें प्रभावितों ने यह प्रतिज्ञा की.

बंद पडे कारखाने के अंदर यूनियन कार्बाइड का पुतला फूंका

जब्बार ने दावा किया कि 2-3 दिसंबर 1984 की दरम्यानी रात को यूनियन कार्बाइड के भोपाल स्थित कारखाने से रिसी जहरीली गैस से अब तक 20,000 से ज़्यादा लोग मारे गए हैं और लगभग 5.74 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. वहीं,गैस पीड़ितों के हितों के लिये काम करने वाले भोपाल ग्रुप फॉर इन्फॉर्मेशन एंड एक्शन की रचना ढींगरा के नेतृत्व में यहां हजारों प्रभावितों ने भारत टॉकीज से यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री तक रैली निकाली और यहां यूनियन कार्बाइड के बंद पडे कारखाने के अंदर यूनियन कार्बाइड का पुतला फूंका. जबकि इस कारखाने के बाहर यूनियन कार्बाइड कॉरपोरेशन (यूसीसी) को खरीदने वाले डाव-डुपोंट कंपनी के पुतले जलाये.

केंद्र एवं राज्य सरकार गैस-पीड़ितों की कर रही है उपेक्षा 

इस दौरान, उन्होंने इस गैस कांड में मारे गए लोगों को श्रदांजलि भी दी. रचना ने आरोप लगाया कि केन्द्र एवं राज्य सरकार गैस-पीड़ितों की उपेक्षा कर रही है. इस त्रासदी की बरसी पर बरकतउल्ला भवन में सोमवार को मुख्य सचिव बी.पी. सिंह की उपस्थिति में सर्वधर्म प्रार्थना-सभा हुई और दिवंगत गैस पीड़ितों को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी. वहीं, भोपाल की सड़कों पर रविवार शाम को यूनियन काबार्इड गैस पीड़ितों ने विभिन्न स्थानों पर मशाल जुलूस निकालकर अपना संघर्ष जारी रखने का ऐलान किया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: