न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जिस धरती से शुरू हुई आयुष्मान भारत योजना, वहीं हो रही फेल

सरकारी अस्पतालों में 244, निजी हॉस्पिटलों में सिर्फ 1356 मरीजों का ही हो सका इलाज

78

Chandan Choudhary

Ranchi : झारखंड की धरती से शुरु हुआ प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत आयुष्मान भारत की स्थिति झारखंड में ही सही नहीं है. 23 सितंबर को राजधानी रांची के प्रभात तारा मैदान से बडे जोशो-खरोश के साथ इस योजना की शुरुआत की गयी थी. लेकिन राजधानी के अस्पतालों ने ही इसे गंभीरता पूर्वक नहीं लिया. आरंभ हुए तिथी से लेकर अब तक की रिपोर्ट देखा जाये तो निराश करने वाली है.

निजी और सरकारी दोनों अस्पतालों को मिलाकर अब तक सिर्फ 1600 मरीजों का ही इलाज अब तक हो सका है. 11 सरकारी अस्पतालों में सिर्फ 244 मरीज का इलाज आयुष्मान भारत के अंतर्गत हुआ, जबकि 47 निजी अस्पतालाओं में 1,356 मरीज ही इस योजना का लाभ उठा सके हैं. सिविल सर्जन कार्यालय से मिले रिपोर्ट के अनुसार सदर अस्पताल में सबसे अधिक 231 मरीजों का इलाज किया गया है. जबकि राज्य के सबसे बडा हॉस्पिटल रिम्स में सिर्फ 13 मरीजों का ही इलाज हो पाया है.

टॉप टेन में भी शामिल नहीं है रिम्स

374 करोड़ रुपए का बजट वाला राज्य का सबसे बडा हॉस्पिटल रिम्स को टॉप 10 में भी जगह नहीं मिल सका है. सिर्फ 13 मरीजों का इलाज कर रिम्स 19 वें स्थान पर है. रिम्स में प्रतिदिन 300 से 400 मरीज इलाज कराने पहुंचते हैं. अधिकांश मरीज आर्थिक रूप से कमजोर होते हैं और उनके पास लाल, पीला कार्ड भी होता है. ऐसे में ही रिम्स का यह आंकडा कई सवाल खड़े करते हैं. रिम्स में अब तक कुल 179 मरीजों का रजिस्ट्रेशन हो सका है. जबकि मरीजों का गोल्डन कार्ड बनाने में रिम्स पीछे नहीं है.

लेकिन योजना के अतर्गत मरीजों का इलाज करने में रिम्स फिस्ड्डी साबित हुआ है. रिम्स की ढीला रवैया देखकर अब तो यहां आने वाले मरीज आयुष्मान भारत के तहत अपना इलाज भी कराना नहीं चाहते. मरीजों का कहना है कि योजना के तहत इलाज कराने में महीनों समय लग जाता है, जबकि पैसे देने से एक सप्ताह में ही इलाज हो जाता है. वहीं रिम्स में आयुष्मान भारत के नोडल पदाधिकारी डॉ संजय कुमार का कहना है कि इंप्लांट और दवाईयों के समय पर नहीं मिलने के कारण मरीजों के इलाज में देरी आती है.

सिंघपुर नर्सिंग होम ने किया 221 मरीजों का इलाज

रिम्स के मुकाबले कुछ निजी अस्पतालों ने अच्छा प्रदर्शन किया है. मुरी का एक निजी अस्पताल सिंघपुर नर्सिंग होम हॉस्पिटल में 312 मरीजों का रजिस्ट्रेशन किया गया. जिसमें 221 मरीजों का इलाज कर दिया गया. रिपोर्ट के अनुसार बड़े-बड़े नाम वाले हॉस्पिटल भी इस योजना के तहत इलाज करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं. मेडिका जैसी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में दो महीने में सिर्फ 107 मरीजों का ही इलाज हो पाया है.

किस हॉस्पिटल में कितने मरीज का हुआ रजिस्ट्रेशन और कितने का हुआ इलाज

(सरकारी)हॉस्पिटल का नाम           रजिस्ट्रड मरीजों की संख्या        इलाज हुआ

सदर हॉस्पिटल                                   514                                    231

रिम्स                                                179                                      15

आएच मांडर, सीएचसी रातू, सीएचसी बुढमू, सीएचसी सिल्ली, सीएचसी सोनाहातू, सीएचसी कांके, सीएचसी चान्हों, डोरंडा डीस्पेंशरी, एसडीएच बुंडू में एक भी मरीज का इलाज नहीं हुआ. इस स्वास्थ्य केंद्र में सिर्फ एक-एक मरीज का ही रजिस्ट्रेशन हुआ है.

(निजी)हॉस्पिटल का नाम                रजिस्ट्रड मरीजों की संख्या                           इलाज हुआ

सिंघपुर नर्सिंग होम                                    340                                                 249

कांके जेनरल हॉस्पिटल                               234                                                144

रिंची ट्रस्ट हॉस्पिटल                                    164                                                 119

रानी हॉस्पिटल                                            237                                                117

नागरमल मोदी सेवा सदन                             157                                                115

 मेडिका हॉस्पिटल                                        194                                               107

एस्लिपीयस सेंटर फॉर मेडिकल सांइस                95                                                79

राजू सेवा सदन                                                81                                               64

राज हॉस्पिटल                                                 61                                                58

देवकमल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                      77                                              58

आयुष्मान नर्सिंग होम                                         64                                               57

शालिनी हॉस्पिटल रुक्का                                     59                                              50

मां राम प्यारी आर्थो हॉस्पिटल                                44                                             28

सिटी ट्रस्ट हॉस्पिटल                                            43                                             25

कमलेश मेमोरियल नर्सिंग होम                               36                                            25

गुलमोहर हॉस्पिटल                                              31                                            25

क्यूरी अब्दूर्र रज्जाक अंसारी कैंसर इंस्टीच्यूट           205                                            24

वरदान  हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                           13                                             6

रांची यूरोलॉजी सेंटर                                                8                                             5

चंद्रा हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                                13                                            4

हरमू हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                                7                                              4

शालिनी हॉस्पिटल नारायण सोसो                              4                                              4

समर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                               9                                              4

डॉ लाल हॅस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                           4                                               3

कश्यप मेमोरियल आई हॉस्पिटल                          12                                               3

अमृत हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                             8                                               3

बालपन एडवांस पेडियाट्रिक हॉस्पिटल                     7                                               2

सुयोग हॉस्पिटल                                                  5                                               2

विशाल सेवा सदन एंड रिसर्च सेंटर                          7                                              2

लेक व्यिू हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                         4                                               1

द सेवन पाम हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                   2                                               1

सिसिर सेवा केंद्र                                                 0                                                0

स्टोन एंड यूरोलॉजी क्लिनीक                                 1                                               0

द्वारिका हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                          1                                              0

बुद्धिष्ट मिशन 2009                                             0                                              0

हेल्थ प्वांइट हॉस्पिटल                                           0                                              0

ह्वील व्यिू हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर                         0                                              0

जसलोक हॉस्पिटल एंड ट्रॉमा सेंटर                         8                                               0

रानी चिल्ड्रेन हॉस्पिटल                                         0                                                0

संजीवनी नर्सिंग होम                                             0                                               0

कश्यप नर्सिंग होम                                             0                                                  0

इसे भी पढ़ें – लिट्टीपाड़ा में लटकी, सिल्ली में सरेंडर और गोमिया में गर्त में जा चुकी बीजेपी के लिए कोलेबिरा की राह कंटीली

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: