न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मरीज को लिक्विड डाइट देने की सलाह दे रहे डॉक्टर, रिम्स की ओर से मिल रहा रोटी-चावल

16

Ranchi : रिम्स प्रबंधन मरीजों की देखभाल व उनके खान पान में लापरवाही बरत रहा है. राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में मरीजों की सेहत का कोई ख्याल नहीं रखा जा रहा. जिस मरीज को डॉक्टर ने लिक्विड फ़ूड खाने का परामर्श दिया है, उन्हें सॉलिड फूड यानी रोटी, सब्जी और चावल दिया जा रहा. वहीं वैसे मरीज जो खाना चबा कर खा सकते हैं उन्हें लिक्विड फ़ूड दिया जा रहा है. मरीजों को उचित आहार नहीं मिलने से उनकी बीमारी ठीक होने के बजाए और बिगड़ रही है.

इसे लापरवाही कहें या गरीब मरीजों का मजाक उड़ाना. रिम्स में इतना भी ख्याल नहीं रखा जाता कि किस मरीज को क्या खाना दिया जाये. रिम्स में मरीजों का खाना डॉक्टर के द्वारा निर्देशत किया जाता है. जिसे रिम्स की नर्स के द्वारा डाइट बुक में चढ़ाया जाता है. मरीज का ख्याल कितना रखा जाता है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मरीज के गले का अॉपरेशन किया गया है, फिर भी उसे सॉलिड डाइट दिया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें –राष्ट्रीय एकता के लिए दौड़ा पलामू, पटले आधुनिक भारत के कुशल शिल्पकार : सांसद

बताते हैं कुछ, मिलता है कुछ और : परिजन

मरीज के परिजनों का कहना है जिस खाने के बारे में लिखवाया जाता है, वह नहीं मिलता उसकी जगह कुछ और मिल जाता है. परिजनों ने बताया कि डॉक्टर परामर्श देते हैं कि मरीज को ठोस खाना खिलाइये लेकिन बार-बार लिक्विड लाकर दे दिया जाता है.

इसे भी पढ़ें –‘लाल’ होती झारखंड की सड़कें: रोड एक्सीडेंट में बढ़ोतरी, पिछले एक साल में 3256 लोगों की गई जान

केस 1

ईएनटी विभाग में भर्ती सूरज मुंडा, जिनके गले का ऑपरेशन हुआ है, वे चावल, दाल, रोटी नहीं खा सकते लेकिन उन्हें लिक्विड डाइट की जगह सॉलिड डाइट दिया जा रहा है. उनके परिजनों ने बताया कि मरीज की हालत खराब है. गले का ऑपरेशन होने के कारण उसे कुछ भी खाने पीने में दिक्कत हो रही है.  डॉक्टर ने लिक्विड डाइट देने को कहा है. लेकिन अस्पताल प्रबंधन द्वारा उन्हें लिक्विड डाइट नहीं मिल रहा. 

इसे भी पढ़ें –गिरिडीह : अफीम सप्लाई करने वाले गिरोह का भांडाफोड़, 3 महिला समेत 6 गिरफ्तार

केस 2

वहीं न्यूरो वार्ड में भर्ती मरीज सरीता जिन्हें फूड पाइप लगा हुआ है. इन्हें भी सॉलिड डाइट देने से मना किया गया है, लेकिन उन्हें भी सॉलिड डाइट ही दिया जा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: