GarhwaJharkhandLead NewsPalamu

मजदूर की मौत से चार मासूम बच्चों के सिर से उठा पिता का साया

गढ़वा के चिनिया रोड में रह रहे कमलेश चौधरी की मौत से परिवार मुसीबत में

Garwah: जिला मुख्यालय के चिनिया रोड में एक मजदूर की शनिवार की सुबह मौत हो गई. मजदूर को पिछले कुछ दिनों से काम नहीं मिल रहा था. रोजगार का अभाव रहने पर वह लगातार परेशान था. शुक्रवार को वह उत्तर प्रदेश गया था. वहां से आने के बाद वह सो गया. सुबह उसे मृत पाया गया.

Advt

इसे भी पढ़ें :पलामू में 23 नये संक्रमित मिले, 62 ने दी कोरोना को मात

अंतिम संस्कार में भी हुई परेशानी

मजदूर अपने पीछे पत्नी और चार छोटे-छोटे बच्चों को छोड़ गया है. मौत के बाद मजदूर को अंतिम संस्कार के लिए शुरू में कोई आगे नहीं आया. इससे इंसानियत तार-तार नजर आई. दम तोड़ती इंसानियत का अंदाजा लगाइये कि परिवार को पूछना तो दूर काफी देर तक मजदूर की मौत के बाद कंधा देने वाला भी कोई नहीं दिखा. हालांकि बाद में झारखंड मुक्ति मोर्चा की ओर से प्रभावित परिवार को आर्थिक सहयोग दिया गया. इसके बाद शव का अंतिम संस्कार मजदूर के पैतृक गांव में किया गया.

इसे भी पढ़ें :रांची सदर अस्पताल ने हासिल की बड़ी उपलब्धि, लक्ष्य सर्टिफिकेशन हासिल करनेवाला राज्य का पहला जिला अस्पताल बना

गढ़वा थाना क्षेत्र के दुबे मरहटीया गांव का था रहने वाला

मिली जानकारी के मुताबिक कमलेश चौधरी नाम का मजदूर गढ़वा थाना क्षेत्र के दुबे मरहटीया गांव का रहने वाला है. कमलेश को उसके घर से निकाल दिया गया था. उसके बाद वह मजदूरी करने उत्तर प्रदेश चला गया. लॉकडाउन में वह लौटकर गढ़वा आ गया. चिनिया रोड में पुलिस लाइन के पास एक कमरे में रहने लगा. 6 दिन पहले उसी कमरे में उसकी पत्नी को चौथा बच्चा हुआ.

इसे भी पढ़ें :अब वैक्सीन लेना होगा आसान, मोबाइल वैक्सीनेशन वैन पहुंचेगी गांव और मोहल्लों में

कई दिन से परिवार भूखा ही सो जाता था

लॉकडाउन के कारण मजदूर को काम भी नहीं मिल रहा था.  परिजनों के मुताबिक वह शुक्रवार की रात बाहर से लौटा था उसे किसी जहरीले जंतु ने काटा लिया था. वह घर आकर  सो गया. सुबह उसकी मौत हो गई.

मोहल्ले के रोहित कुमार ने कहा कि मजदूर बहुत गरीब था. कई दिनों से इसे काम भी नहीं मिल रहा था

इसे भी पढ़ें :सीनियर अफसर का आया कॉल और 5 लाख के इनामी माओवादी कमांडर ने किया सरेंडर

Advt

Related Articles

Back to top button