JamshedpurJharkhand

भाजमो गठन का श्रेय जमशेदपुर की जनता को, अहंकारी को बदलने के लिए इतिहास में दर्ज होगा नाम : सरयू राय

दीनदयाल जयंती पर भारतीय जन मोर्चा ने शुरू किया सदस्यता अभियान, पार्टी के झंडा का हुआ विमोचन

Jamshedpur : जमशेदपुर पूर्वी के विधायक और भारतीय जनमोर्चा सुप्रीमो सरयू राय ने कहा है कि जमशेदपुर की जनता का नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज होगा. यहां के आमजनों ने शहर के विकास के लिए एक पार्टी के गठन में अपना नाम दर्ज करा लिया है. सरयू राय शनिवार को धालभूम क्लब में पंडित दीनदयाल उपाध्याय जयंती पर अपनी पार्टी के सदस्यता अभियान की शुरुआत के मौके पर कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे. राय ने कहा कि भाजमो के गठन का श्रेय जनता को है. जनता की मांग पर ही पार्टी के गठन का विचार हुआ. झारखंड सरकार में पूर्व मंत्री रहे सरयू राय ने कहा कि भाजमो का गठन इसलिए हुआ क्योंकि जनता परिवर्तन चाहती थी. 2019 के विधानसभा चुनाव में एक ऐसी परिस्थिति उत्पन्न हुई, जिससे जनता परिवर्तन की मांग करने लगी. जनता रास्ते से भटक गये व्यक्ति से छुटकारा चाहती थी. अहंकार, अभिमान और घमंड को बदलना चाहती थी. आखिरकार जनता इस अभियान में सफल भी हुई. इसके लिए इतिहास के पन्नों पर जमशेदपुर की जनता का नाम दर्ज होगा. उन्होंने कहा कि पार्टी के शीर्ष नेता अगर गलती करें, तो कार्यकर्ता व जनता को अधिकार है कि वह सुधार करे.

इसके पहले अंत्योदय के नारों के साथ पार्टी के सदस्यता अभियान की शुरुआत की गयी तथा पार्टी के झंडा का विमोचन किया गया. पार्टी सुप्रीमो सरयू राय ने झंडा फहरा कर कार्यक्रम की शुरुआत की. इस दौरान काफी संख्या में पार्टी के पदाधिकारी, सदस्य और समर्थक गाजे-बाजे के साथ मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें – बिरसानगर से नाबालिग लड़की का घर से ही अपहरण

advt

सरयू ने बिना नाम लिए हेमंत सोरेन सरकार पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि कुछ पार्टियां भाषा व जाति को लेकर राजनीति करती हैं. राज्य की जनता को बांटने का प्रयास कर रही हैं. झारखंड के साथ छत्तीसगढ़ और उत्तराखंड का भी गठन हुआ, लेकिन झारखंड को छोड़कर बाकी दोनों राज्यों में भेदभाव की समस्या नहीं है. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी में आदिवासी समेत सभी जाति, सभी धर्म के लोग रहेंगे. पार्टी के मुख्य एजेंडा केवल विकास है. पार्टी का लक्ष्य पंडित दीनदयाल के अंत्योदय के तहत समाज के सबसे अंतिम व्यक्ति का विकास तथा मानवतावाद है. सरयू राय ने कहा कि आगामी दिसंबर में झारखंड गठन के 21 साल होने को हैं, लेकिन अभी भी विकास के बजाय भाषा और जाति पर राजनीति की जा रही है. उन्होंने कहा कि वे केबुल कंपनी के पुनरुद्धार के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं. उन्होंने केबल कंपनी को लेकर प्राप्त बेनामी चिट्ठी, सिदगोड़ा सूर्यमंदिर और बस्तियों के मालिकाना हक को लेकर भी लोगों की जानकारी दी. उन्होंने कहा कि शौचालय तोड़कर ऑफिस का निर्माण कराया जा रहा है. उन्होंने कहा कि जमशेदपुर के विकास के विभिन्न मुद्दों को लेकर वे टाटा स्टील से भी बात करेंगे.

इसे भी पढ़ें – पटमदा और बोड़ाम में नकली पिस्तौल दिखाकर लूट की घटनाओं को अंजाम दे रहा है पुरुलिया गैंग

adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: