Corona_UpdatesLead NewsNationalTOP SLIDER

देश को जल्द मिलने वाली है कोरोना की 6 नई वैक्सीन, जानिए कितनी कारगर होगी नई वैक्सीन

Uday Chandra Singh

New Delhi: भारत को जल्द ही जायडस कैडिला की दुनिया की पहली डीएनए-प्लासमिड वैक्सीन मिल जायेगी, जो भारत-निर्मित है. इसके अलावा देश को जो अन्य वैक्सीनें जल्द मिलने की उम्मीद है, उनमें बायोलॉजिकल-ई की प्रोटीन सब-यूनिट वैक्सीन शामिल है. NEWSWING के साथ एक विशेष मुलाकात में राष्ट्रीय टीकाकरण परामर्श समूह (एटीएजीआई) के कोविड-19 कार्य समूह के अध्यक्ष डॉ. नरेन्द्र कुमार अरोड़ा ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इन वैक्सीनों का परीक्षण काफी उत्साहवर्धक रहा है.

इसे भी पढ़ें :शराब के झूठे केस में फंसाती है नीतीश की पुलिस, जदयू नेता ने ही खोल दी पोल

Catalyst IAS
ram janam hospital
The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

उन्होंने कहा, “हमें उम्मीद है कि यह वैक्सीन सितंबर तक उपलब्ध हो जायेगी. भारतीय एम-आरएनए वैक्सीन को 2-8 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर रखा जा सकता है, वह भी सितंबर तक मिल जायेगी. दो अन्य वैक्सीनें सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की नोवावैक्स और जॉनसन-एंड-जॉनसन भी जल्द मिलने की संभावना है. जुलाई के तीसरे सप्ताह तक भारत बायोटेक और एसआईआई की उत्पादन क्षमता में भी भारी इजाफा हो जायेगा.इससे देश में वैक्सीन की आपूर्ति में बढ़ोतरी होगी. अगस्त तक हम उम्मीद करते हैं कि हम एक महीने में 30-35 करोड़ डोज हासिल करने लगेंगे.” डॉ. अरोड़ा ने कहा कि इस तरह हम एक दिन में एक करोड़ लोगों को टीका लगाने में सक्षम हो जायेंगे.

इसे भी पढ़ें : भाकपा माओवादी संगठन ने ग्रामीणों से सहानुभूति रखते हुए झारखंड सरकार से क्षतिपूर्ति की मांग की

अध्यक्ष डॉ. अरोड़ा से यह पूछे जाने पर कि नई वैक्सीनें कितनी असरदार होंगी, उन्होंने कहा कि अगर हम कहते हैं कि – अमुक वैक्सीन 80 प्रतिशत असरदार है, तो इसका मतलब यह है कि वैक्सीन कोविड-19 रोग की संभावना को 80 प्रतिशत कम कर देती है. संक्रमण और रोग में फर्क होता है. अगर किसी व्यक्ति को कोविड का संक्रमण है, लेकिन कोई लक्षण नहीं हैं, तो वह व्यक्ति सिर्फ संक्रमित है. बहरहाल, यदि व्यक्ति में संक्रमण के कारण लक्षण भी नजर आ रहे हैं, तो वह व्यक्ति कोविड रोग से ग्रस्त माना जायेगा.

दुनिया की हर वैक्सीन कोविड रोग से बचाती हैं.टीका लगवाने के बाद गंभीर रूप से बीमार होने की बहुत कम संभावना होती है; जबकि मृत्यु की संभावना नगण्य हो जाती है. अगर वैक्सीन की ताकत 80 प्रतिशत है, तब टीका लगवाने वाले 20 प्रतिशत लोगों को हल्का कोविड हो सकता है.भारत में जो वैक्सीनें उपलब्ध हैं, वे कोरोना वायरस के फैलाव को कम करने में सक्षम हैं.

इसे भी पढ़ें : vaccination in Jharkhand : स्टॉक में वैक्सीन नहीं, रोजाना ढाई लाख वैक्सीनेशन का निर्देश

Related Articles

Back to top button