Lead NewsNationalNEWS

देश को मिल सकती है पहली महिला सीजेआई, कॉलेजियम ने की है सिफारिश, जानें-कौन है वह महिला

New Delhi: देश में पहली बार किसी महिला के सीजेआई बनने के आसार हैं. सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने नौ नामों की सिफारिश केंद्र सरकार से की है. कर्नाटक उच्च न्यायालय से न्यायमूर्ति बीवी नागरत्ना सहित तीन महिला न्यायाधीशों के नाम भी भेजे गये हैं. नागरत्ना पहली महिला सीजेआई बन सकती हैं. मालूम हो कि पांच सदस्यीय कॉलेजियम में जस्टिस यूयू ललित, एएम खानविलकर, डीवाई चंद्रचूड़ और एल नागेश्वर राव भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंःपत्नी को तलाक दिया जा सकता है, बच्चों को नहीं, क्योंकि आपने उन्हें जन्म दिया हैः सुप्रीम कोर्ट

12 अगस्त को न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन की सेवानिवृत्ति के साथ, शीर्ष अदालत में न्यायाधीशों की संख्या सीजेआई सहित 34 की स्वीकृत शक्ति के मुकाबले घटकर 25 हो गई थी. गौरतलब है कि 19 मार्च 2019 को तत्कालीन सीजेआई रंजन गोगोई के सेवानिवृत्त होने के बाद से कोई नियुक्ति नहीं की गई है. प्राप्त जानकारी के अनुसार, न्यायमूर्ति नागरत्ना के अलावा, नियुक्ति के लिए चुनी गई दो अन्य महिला न्यायाधीशों में तेलंगाना उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति हिमा कोहली और गुजरात उच्च न्यायालय की न्यायाधीश बेला त्रिवेदी हैं.

इसे भी पढ़ेंःसूडोकू की गुत्थी में दुनिया को उलझाने वाले माकी काजी नहीं रहे, 10 करोड़ लोग नियमित सूडोकू खेलते हैं

सूत्रों के अनुसार केंद्र सरकार को भेज गये  नामों की सूची में  न्यायमूर्ति अभय श्रीनिवास ओका (कर्नाटक उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश), विक्रम नाथ (गुजरात उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश), जितेंद्र कुमार माहेश्वरी (सिक्किम उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश), सीटी रवि कुमार (केरल उच्च न्यायालय में न्यायाधीश) और एमएम सुंदरश (केरल उच्च न्यायालय में न्यायाधीश) शामिल हैं.

Related Articles

Back to top button