न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गोल्डेन कार्डधारी मरीज के परिजनों का आरोप : मेडिका हॉस्पिटल ने कहा- चार लाख जमा करो, तब करेंगे डिस्चार्ज

36

Ranchi : भगवान महावीर मेडिका हॉस्पिटल प्रबंधन पर आयुष्मान भारत योजना (प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना) की अवहेलना करने का आरोप लगा है. आरोप है कि हॉस्पिटल में इलाज कराने आये उमेश कुमार का प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत गोल्डेन कार्ड बना हुआ है, इसके बावजूद हॉस्टिपल प्रबंधन द्वारा उनसे इलाज की फीस के रूप में चार लाख रुपये जमा करने को कहा गया. कांके के हुंदूर के रहनेवाले उमेश 19 अक्टूबर को सड़क हादसे का शिकार हो गये थे. इलाज के लिए उन्हें भगवान महावीर मेडिका हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां उनका इलाज डॉ संजय कुमार और पैट्रिक पी मिंज की निगरानी में चल रहा था. उमेश के परिजनों का कहना है कि उमेश के इलाज के बाद उन्हें चार लाख रुपये का भारी-भरकम बिल पकड़ा दिया गया. इस पर उमेश के परिजनों ने बताया कि वे आयुष्मान भारत योजना के लाभुक हैं और उनके पास गोल्डेन कार्ड भी है, तो इलाज नि:शुल्क होना चाहिए. लेकिन, हॉस्पिटल प्रबंधन ने उनकी एक न सुनी और बिल जमा करने का दबाव बनाने लगा.

इसे भी पढ़ें- महिला की जलकर मौत, जेठ-जेठानी व भतीजियों पर लगा जलाकर मारने का आरोप

1.70 लाख कैश और दो लाख का चेक लेने के बाद किया डिस्चार्ज

उमेश के परिजनों ने बताया कि किसी तरह उन्होंने 1.70 लाख रुपये जुटाये और प्रबंधन को दिये, लेकिन इसके बाद भी हॉस्पिटल प्रबंधन ने उनको को पूरे पैसे जमा करने को कहा. उमेश के घरवालों ने बताया कि वे लोग खेती-बारी कर अपना गुजर-बसर करते हैं और आर्थिक रूप से बहुत ही कमजोर हैं. इसके बाद भी प्रबंधन का दिल नहीं पसीजा, इनलोगों ने उमेश से दो लाख रुपये का चेक जमा करवा लिया. जब उमेश के परिजनों ने चेक जमा किया, तब उमेश को डिस्चार्ज कर दिया गया.

इसे भी पढ़ें- रांची के इलाहाबाद बैंक से संयुक्त निदेशक राजीव सिंह के भाई ने फरजी दस्तावेज पर लिया कर्ज

मीडिया से भी की गयी बदसलूकी

वहीं, इस पूरे मामले पर मीडिया ने जब हॉस्पिटल प्रबंधन से बात करनी चाही, तो हॉस्पिटल के सुरक्षाकर्मी मीडिया से बदसलूकी करने लगे. सुरक्षाकर्मियों ने किसी भी डॉक्टर या पदाधिकारी से मिलने नहीं दिया और रविवार की छुट्टी की बात कहकर बात को टालते रहे. प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना से गरीबों में उपचार को लेकर एक उम्मीद जगी है, लेकिन निजी अस्पतालों द्वारा किये जा रहे उत्पीड़न के कारण सरकार की इस जनकल्याणकारी योजना का लाभ जरूरतमंदों तक पहुंच ही नहीं रहा है. आज भी गरीबों को लूटने का काम बदस्तूर जारी है. निजी अस्पतालों में गरीबों को आयुष्मान भारत का कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: