JharkhandRanchi

इलेक्ट्रिशियन का काम करने वाले श्रमिकों को पैसा नहीं दे रही थी कंपनी, महाराष्ट्र के रायगढ़ से वापस लौटे झारखंड के 23 श्रमिक

राज्य सरकार के संज्ञान में आने के बाद कंपनी पर दबाव डाल कराया गया मुक्त

Ranchi : पश्चिमी सिंहभूम के 23 श्रमिक महाराष्ट्र के रायगढ़ से एसआरसी फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन से मंगलवार को चक्रधरपुर पहुंच गए. ये श्रमिक रायगढ़ जिला में स्थित एल एंड टी (लार्सन एंड टुर्बो) कोंकण रेलवे में इलेक्ट्रिशियन का काम करते थे. कंपनी इन्हें पिछले तीन महीने से वेतन नहीं दे रही थी. ऐसे में मुश्किल से काम कर रहे मजदूरों ने वापस लौटने का फैसला किया, पर उनके पास ट्रेन का टिकट खरीदने के भी पैसे नहीं थे.

इन श्रमिकों ने श्रम विभाग के राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष से संपर्क कर मदद की गुहार लगाई. इसके बाद राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष ने एल एंड टी के मैनेजर से बात कर सभी श्रमिकों के लिये ट्रेन भाड़े के मद में 10 हजार रुपये की व्यवस्था करायी. जल्दी ही श्रमिकों के बकाया वेतन का भी भुगतान कंपनी कर देगी.

इसे भी पढ़ें:ICC Women’s Ranking: भारतीय कप्तान मिताली राज फिर से No.1 , स्मृति मंधाना और दीप्ति शर्मा को भी फायदा

advt

सनकुचिया गांव के रहनेवाले हैं सभी श्रमिक

सभी श्रमिक पश्चिमी सिंहभूम के सनकुचिया गांव के नीमडीह पंचायत के टोंटो प्रखंड के निवासी हैं. कुछ महीने पहले से ये रायगढ़ स्थित कंपनी में इलेक्ट्रिशियन का काम कर रहे थे. वहां श्रमिकों का तीन महीने से वेतन बकाया था.

राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष और इसका संचालन कर रही फिया फाउंडेशन की टीम ने कंपनी के मैनेजर से बात कर उनपर दबाव बनाया कि वे मजदूरों को मुक्त करें और उनके ट्रेन के भाड़े की व्यवस्था करें. इसके बाद कंपनी ने मजदूरों के भाड़े के लिए पैसे दिए.

adv

इसे भी पढ़ें:झांसा देकर कई वर्षों तक किया यौन शोषण, शादी से बचने के लिए दिया ज्योतिष कुंडली का हवाला, कोर्ट ने कहा- नहीं चलेगा ये बहाना

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: