न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आयोग ने की कार्रवाई, भाजपा के फायरब्रांड योगी आदित्यनाथ तीन दिन व मायावती के दो दिन प्रचार करने पर रोक

आजम खान पर 72 घंटे और मेनका गांधी पर 48 घंटे का प्रतिबंध

433

New Delhi:  आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में चुनाव आयोग ने सख्त कदम उठाया है. चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और भाजपा के फायरब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ और बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती के प्रचार करने पर रोक लगा दी है. चुनाव आयोग की ये रोक 16 अप्रैल से शुरू होगी. जो कि योगी आदित्यनाथ के लिए 72 घंटे और मायावती के लिए 48 घंटे तक लागू रहेगी.

आजम खान पर 72 घंटे और मेनका गांधी पर 48 घंटे का प्रतिबंध

चुनाव आयोग ने संज्ञान लेते हुए समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान पर चुनाव प्रचार करने पर 72 घंटे का रोक लगा दिया है. आयोग के इस फैसले के बाद आजम खान तीन दिन तक चुनाव प्रचार नहीं कर पायेंगे. वहीं आयोग ने भाजपा की मेनका गांधी पर भी 48 घंटे का बैन लगाया है. मेनका गांधी ने अपनी एक सभा में मुसलमानों के संदर्भ में टिप्पणी की थी. वहीं आजम खान ने भाजपा प्रत्याशी जया प्रदा के बारे में आपत्तिजनक बातें कहीं थीं.

hosp3

इसे भी पढ़ें – बाबूलाल मरांंडी के नामांकन में भी दिखी महागठबंधन की एकजुटता, हेमंत सोरेन ने कहा : एनडीए को हराना मकसद

सोशल मीडिया का भी इस्तेमाल नहीं कर पायेंगे

इस दौरान योगी आदित्यनाथ और मायावती ना ही कोई रैली को संबोधित कर पाएंगे, ना ही सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर पाएंगे और ना ही किसी को इंटरव्यू दे पाएंगे. चुनाव आयोग का एक्शन 16 अप्रैल सुबह 6 बजे शुरू होगा. योगी आदित्यनाथ 16, 17 और 18 अप्रैल को कोई प्रचार नहीं कर पाएंगे. इसके अलावा मायावती 16 और 17 अप्रैल को कोई चुनाव प्रचार नहीं कर पाएंगी.

इसे भी पढ़ें – जयाप्रदा पर अपमानजनक टिप्पणी  :  द्रौपदी के चीर हरण पर भीष्म की तरह मौन न साधें , सुषमा ने  मुलायम से कहा

धर्म के आधार पर मांगा था वोट

गौरतलब है कि बसपा प्रमुख मायावती ने उत्तर प्रदेश के देवबंद में चुनावी सभा के दौरान मुस्लिम समुदाय के लोगों से वोटों के लिए अपील की थी. मायावती का ये बयान धर्म के नाम पर वोट मांगने के नियम का उल्लंघन है. वहीं यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने एक संबोधन में मायावती पर हमला करते हुए कहा था कि अगर विपक्ष को अली पसंद है, तो हमें बजरंग बली पसंद हैं.

इसे भी पढ़ें – आजसू और जेएमएम के बीच ट्विटर वार: जेएएमएम के खिलाफ आजसू आक्रमक

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: