न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बंद डीसी लाइन अब नहीं होगी चालू, वैकल्पिक मार्ग होगा बहुत जल्द शुरू : पीयूष गोयल

डीसी लाइन का विकल्प तैयार करने के लिए नई रेल लाइन बिछाई जाएगी

134

Jhariya / Dhanbad :  कोयला खदानों को देखने शनिवार को केंद्रीय कोयला मंत्री सह रेल मंत्री पीयूष गोयल बीसीसीएल के लोदना क्षेत्र अंतर्गत एकीकृत नार्थ तिसरा-साउथ तिसरा-जीनागोरा परियोजना स्थित गोकुल धाम सह इको रेस्टोरेशन पार्क पहुंचे. जहां उपस्थित बीसीसीएल अधिकारियों में सीएमडी अजय कुमार सिंह, देवल गंगोपाध्याय, डीटी एनके त्रिपाठी, आरएस महापात्रा, लोदना महाप्रबंधक कल्याण प्रसाद आदि दर्जनों कर्मियों ने गर्मजोशी के साथ  स्वागत किया. मंत्री गोयल ने अग्नि प्रभावित क्षेत्रों में कोयले का उत्खनन को देखने, विशेष तौर पर नार्थ तिसरा और साउथ तीसरा परियोजना का भ्रमण किया. साथ ही परियोजना स्थल का अवलोकन किया.

इसे भी पढ़ें-एक सप्ताह में रांची पुलिस ने 44 अपराधियों को किया गिरफ्तार

भारत कोकिंग कोल लिमिटेड का भविष्य काफी उज्जवल

उन्होंने कठिन परिस्थितियों में कोयला का उत्पादन कर रहे कोयला मजदूरों एवं अधिकारियों तथा बीसीसीएल प्रबंधन की सराहना की. उन्होंने कहा कि भारत कोकिंग कोल लिमिटेड भारत में ऊर्जा की रीढ़ मानी जाती है. यह कोयला की आपूर्ति कर देश की स्टील एवं पावर प्लांटों को आत्मनिर्भर बनाने में अहम भूमिका निभा रहा है. उन्होंने उम्मीद जाहिर की है कि विषम परिस्थितियों में उच्च गुणवत्ता वाला कोकिंग कोल की आपूर्ति करने वाली कंपनी भारत कोकिंग कोल लिमिटेड का भविष्य काफी उज्जवल है. उन्होंने झरिया कोलफील्ड के अग्नि प्रभावित एवं अग्नि प्रभावित क्षेत्रों का विस्तृत जानकारी ली. इसके बाद उन्होंने बीसीसीएल सीएमडी अजय कुमार सिंह एवं सभी निदेशकों से कोयला के उत्पादन, डिस्पैच आदि मुद्दों पर विस्तृत बातचीत की और आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए.

इसे भी पढ़ें-15 अगस्‍त 2019 को बनकर तैयार होगा दुमका में खादी पार्क

बंद धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन नहीं होगी चालू : रेल मंत्री

मंत्री गोयल ने साफ कर दिया है कि बंद धनबाद-चंद्रपुरा (डीसी) रेल लाइन अब चालू नहीं होगी. उन्होंने कहा है कि डीसी लाइन का विकल्प तैयार करने के लिए नई रेल लाइन बिछाई जाएगी. जल्द से जल्द रेल लाइन बिछे इसके लिए केंद्र सरकार गंभीर है. बीसीसीएल की कोयला खदानों का जायजा लेने पहुंचे केंद्रीय रेल और कोयला मंत्री गोयल ने डीसी लाइन पर बड़ा बयान दिया. उन्होंने मीडिया के सवालों को जवाब देते हुए कहा कि डीसी लाइन पर अब रेल परिचालन संभव नहीं है. भूमिगत आग से जानमाल को खतरा है. एक भी जान चली गई तो बहुत बड़ा घातक सिद्ध होगा. रेल लाइन बंद होने से जनता की परेशानियों को दूर करने के लिए मंत्री ने वैकल्पिक लाइन तैयार करने की बात दुहराई.

इसे भी पढ़ें-नामकुम के हेसापीड़ी में उत्पाद विभाग ने की छापामारी, शराब बनाने का सामान बरामद

palamu_12

15 जून 2017से बंद है डीसी लाइन

भूमिगत आग से खतरा बताते हुए 15 जून 2017 को धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन बंद कर दी गई थी. इसके बाद से रेल लाइन चालू करने की मांग हो रही है. रेल लाइन बंद होने के बाद रेल मंत्री पीयूष गोयल पहली बार शनिवार को धनबाद आए थे. धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन धनबाद और बोकारो जिले के 14 स्टेशनों से होकर गुजरती है. धनबाद और राजधानी रांची को जोड़ने वाली यह लाइन रेलवे की व्यस्तम लाइनों में एक थी. मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों के अलावा प्रतिदिन तीन दर्जन से ज्यादा मालगाड़ियां चलती थीं. जबकि प्रति वर्ष सफर करने वाले रेल यात्रियों की संख्या एक करोड़ के आस-पास थी.

इसे भी पढ़ें- डस्टबिन लगाने के बहाने खाया कमीशन ! जनता के 21 लाख निगम ने किये बर्बाद

खाली रह गया सभास्थल, बैठे रहे जनप्रतिनिधि

वहीं दुसरी तरफ गोकुल धाम स्थित इको रेस्टोरेशन पार्क मे केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के आगमन को लेकर बीसीसीएल प्रबंधन द्वारा बनाए गए सभा स्थल में उनको अपने समक्ष सुनने के लिए बैठे सैकड़ों बीसीसीएल कर्मी एवं सिंंदरी विधायक फुलचंद मंडल, झरिया की पूर्व विधायिका कुंती देवी को उस समय काफी निराश होना पड़ा जब उन्हें बीसीसीएल के अन्य अधिकारियों द्वारा ये बताया गया कि मंत्री पीयूष गोयल का काफिला बलियापुर हवाई अड्डा के लिए प्रस्थान कर गया. पत्रकारों द्वारा जब उनसे इस संबंध में बात की गई कि बिना सभास्थल में आए बिना यहां के मजदूरों से मिले मंत्री जी चले गए. इससे लोगों के बीच काफी मायूसी देखी गयी. वहीं कार्यक्रम में मंत्री के नहीं आने से आधे से ज्यादा कुर्सियां खाली की खाली रह गई.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: