न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नागरिकता संशोधन बिल से मुसलमान से कहीं अधिक उदार हिंदू इसकी चपेट में आयेंगे

3,211

Abhishek Shrivastav

ये जो नागरिकता संशोधन का संसदीय प्रहसन जारी है, उस पर थोड़ा ठहर कर सोचें तो शायद पकड़ सकें कि मामला मुसलमानों को बेदखल करने का इतना नहीं है, जितना गैर-मुसलमानों को एकमुश्त हिन्दू बना देने का है. ज़रा रिकॉर्ड खंगाल के देखिए पिछले कुछ साल का, किस किस्म के हिन्दू निपटाए गए हैं.

मोटे तौर से दो तरह के हिन्दुओं को निशाना बनाया गया है. एक वे, जो असहमत थे, चाहे किसी भी जाति या वर्ग के रहे हों. मसलन, दाभोलकर से लेकर गौरी लंकेश तक. दूसरे वे, जो निम्न जाति और वर्ग के थे. यूपी के फर्जी एनकाउंटर इसकी अकेले गवाही देंगे.

इसे भी पढ़ेंः #CAB : प्रदर्शनकारियों ने जामियानगर से ओखला मार्च निकाला, भारी उत्पात मचाया, तीन बसें आग के हवाले  

चलिए, एक बार को मान लेते हैं कि सरकार की सारी ताकत मुसलमानों को बेदखल करने के लिए है. क्या इससे सारे हिन्दू खुश हो जाएंगे? ऐसा कतई नहीं है. केवल मतदान के आंकड़ों को देखें तो आधे से ज़्यादा हिन्दू आबादी अब भी मुसलमान विरोधी नहीं है, वो सह-अस्तित्व में विश्वास करने वाली है.

इसके लिए आसान गणित ये है कि आप भाजपा के अलावा बाकी सारे दलों के हिन्दू वोट जोड़ लें. ये ऐसे हिन्दू हैं जिन्हें आरएसएस वाला हिन्दू नहीं कहा जा सकता.

इनमें सामान्य लोग और वैचारिक रूप से दक्षिणपंथ विरोधी विचार खेमे के तमाम लोग शामिल हैं. गांधीवादी हैं, मानवतावादी हैं, वामपंथी हैं, समाजवादी हैं, अंबेडकरवादी हैं, रैदासी, कबीरपंथी, नाथपंथी, सतनामी, आदि हैं. आरएसएस ब्रांड हिन्दू के विरोधी खेमे में सतरंगी हिन्दू हैं.

Sport House

ये वे लोग हैं जो ज़्यादातर अपनी पहली पहचान धर्म को नहीं, अलहदा चीज़ों को मानते हैं. कोई विचार को, कोई जाति को, कोई क्षेत्र को, भाषा को, गुरु को… बहुविध पहचान वाले इन हिन्दुओं का क्या किया जाए, आरएसएस की सबसे बड़ी दिक्कत ये है. मुसलमान नहीं.

इसे भी पढ़ेंः #CAB का विरोध: गुवाहाटी में दो और लोगों की मौत, पुलिस गोलीबारी में मरने वालों की संख्या चार हुई : अधिकारी

नागरिकता संशोधन के बाद दरअसल होगा ये, कि इस सतरंगी खेमे को नागरिक मानने के बहाने स्टेट की तरफ से जो प्राथमिक पहचान दी जाएगी वह हिन्दू की होगी. उस हिन्दू की नहीं जो लोग खुद को मानते हैं. उस हिन्दू की, जो स्टेट उन्हें मानना चाहता है- मुसलमान को अपने लिए खतरा मानने वाला हिन्दू. इस तरह देश के तमाम हिन्दुओं को एकमुश्त हिन्दू पहचान देकर नागरिकता बख़्शी जाएगी. यह प्रिविलेज नहीं होगा, अहसान होगा.

मेरे ख्याल से असल खतरा यहां है. संशोधन विधेयक लागू होने के बाद कल को मैं ज़बान खोलूंगा तो मुझे कह दिया जाएगा कि हिन्दू होने के कारण ही तुम्हें नागरिक माना गया है, इसलिए चुपचाप पड़े रहो. इससे स्टेट को कोई फर्क नहीं पड़ेगा कि मैं खुद की प्राथमिक पहचान क्या मानता हूं.

उसके लिए मैं सबसे पहले हिन्दू हूं और इसलिए मुझे उसका अहसानमंद होना पड़ेगा. बताइए. ऐसे में मेरे पास क्या रास्ता बचता है? ज़िन्दगी भर आप खुद को सेक्युलर, डेमोक्रेटिक, जातपात विरोधी, धार्मिक पहचान का विरोधी, फलाना ढेकाना मानते रहे और एक झटके में एक कानून ने आपको हिन्दू बना दिया और अहसान भी लाद दिया?

नागरिकता के सवाल पर मैं उस दिन से सोच रहा हूं जब मथुरा के जवाहरबाग में रामवृक्ष यादव और उनके साथियों की गोलियों से भून दिया गया था. रामवृक्ष लगातार अपनी नागरिकता के सबूत के लिए आरटीआई लगाए पड़े थे. जवाब में मिली थी गोली. क्यों? क्योंकि नागरिक होने का कोई प्रमाण देना स्टेट के लिए अब तक संभव नहीं था, सिवाय झौआ भर पहचान पत्रों के.

पहचान पत्र नागरिकता का प्रमाण नहीं होते, रामवृक्ष लगातार यही कहे जा रहे थे. वे ज़िंदा होते तो संशोधन के कानून बन जाने पर सरकार धार्मिक आधार पर उन्हें हिन्दू होने का प्रमाणपत्र शायद दे देती. लेकिन यह उनका entitlement नहीं होता, अहसान होता. मने आप गैर-मुसलमान नागरिक हैं तो चुपचाप इस स्टेट का अहसान खाइए या फिर गोली! मर्ज़ी आपकी है.

अब सोचिए, यह संशोधन किसके लिए ज़्यादा खतरनाक है? इस सरकार से मुसलमान ज़्यादा खतरे में है या सीधा सच्चा हिन्दू?

(लेखक यायावर पत्रकार  हैं)

डिसक्लेमरः इस लेख में व्यक्त किये गये विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख में दी गयी किसी भी तरह की सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता और सच्चाई के प्रति newswing.com उत्तरदायी नहीं है. लेख में उल्लेखित कोई भी सूचना, तथ्य और व्यक्त किये गये विचार newswing.com के नहीं हैं. और newswing.com उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Mayfair 2-1-2020
SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like