JharkhandRanchi

पत्थलगड़ी को लेकर दर्ज मुकदमों को वापस लेने के संकल्प को मुख्यमंत्री ने दी स्वीकृति

Ranchi : छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम और संथाल परगना काश्तकारी अधिनियम में संशोधन के विरोध करने वालों के खिलाफ जिन व्यक्तियों पर प्राथमिकी दर्ज कर मुकदमे दायर किये गये हैं,  उन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने वापस लेने की बात कही थी. इसी क्रम में गृह विभाग की ओर से दर्ज मुकदमों को हटाने को लेकर संकल्प जारी किया था. आज उक्त संकल्प को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने स्वीकृति दे दी है. ज्ञात हो कि 29 दिसंबर 2019 को मंत्रिमंडल की बैठक में पत्थलगड़ी से जुड़े सभी दर्ज कांड को वापस लेने का निर्णय लिया गया था.

जिला स्तरीय समिति बनायी गयी थी

पत्थलगड़ी  को लेकर विभिन्न थानों में दर्ज  मुकदमों को वापस लेने के सिलसिले में जिलों में त्रिस्तरीय समिति का गठन किया गया था. इस समिति में अध्यक्ष के रूप में उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी तथा सदस्य के रूप में  पुलिस अधीक्षक और लोक अभियोजक को रखा गया था.

इस सिलसिले में सरायकेला खरसावां, खूंटी, चाईबासा दुमका और साहिबगंज से प्राप्त प्रतिवेदन के आलोक में  छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम और संथाल परगना काश्तकारी अधिनियम में संशोधन के विरोध करने तथा पत्थलगड़ी करने से संबंधित मुकदमों को वापस लेने का निर्णय सरकार द्वारा लिया गया है. ज्ञात हो कि विभिन्न थानों में पत्थलगड़ी को लेकर 23 मुकदमे दर्ज हैं.

Sanjeevani

Related Articles

Back to top button