NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कंक्रीट में बदलते रांची शहर पर चोट करने के अभियान की शुरुआत 15 अगस्‍त को साइकिलिंग से

आजादी के 71वीं सालगिरह के मौके पर सिविल सोसाइटी के जरिये कंक्रीट में तब्‍दील होते रांची शहर पर चोट करने का अभियान शुरू किया जा रहा है.

273

Ranchi: आजादी के 71वीं सालगिरह के मौके पर सिविल सोसाइटी के जरिये कंक्रीट में तब्‍दील होते रांची शहर पर चोट करने का अभियान शुरू किया जा रहा है. इसके लिए सिविल सोसाइटी मंच के द्वारा जागरुकता के लिए 15 अगस्‍त 2018 की सुबह 7 बजे रांची में साइकिलिंग की जायेगी. सिविल सोसाइटी मंच का कहना है कि यह शहर हमारा है, और हमें ही इसे भविष्य की राह दिखानी है, सिर्फ बैठकर या सरकारी तंत्र को कोसने से ज्यादा कुछ हासिल नहीं होगा, हमें रांची को एक श्रेष्ठ शहर बनाना है, इसलिए समय हमें ही देना होगा, हमें ही उठना होगा, हमें ही प्रयास करना होगा, इसी उद्देश्य से शहर के कुछ सजग नागरिक गण, जो समाज के विभिन्न पेशों से जुड़े हुए हैं, अपना कुछ समय, ज्ञान और नजरिया इस स्वैच्छिक मंच के जरिये अपने शहर के लिए प्रदान कर रहे हैं.

इस मंच के साथ लाने और सरकार का ध्यान आकृष्ट कराने के उद्देश्य से आजादी की सुबह 7 बजे बिग बाजार, एमजी रोड से जयपाल सिंह स्टेडियम तक एक ग्रुप साइकिल राइड का कार्यक्रम आयोजित किया गया है, जिसमें मंच के सदस्यों के साथ अन्य संस्थाओं के जागरूक मित्र भी भाग लेंगे.

रांची शहर का स्वरूप साइकिल यात्रा के काफी अच्छा है, फिर भी शहरवासियों को अपने रोजमर्रा के जीवन को साइकिल से पूरा करने लायक सुरक्षित ट्रैक्स नहीं प्रदान किये जा रहे हैं और सरकारी निधि को गैर जरूरी कार्यों में खर्च किया जा रहा है. सरकार की योजनाओं के निर्माण, क्रियान्वयन और अनुश्रवण में जन भागीदारी भी शून्य है और कई संदर्भों में जनता पर एकतरफा कर का भार थोपा गया है.

इसे भी पढ़ें-जांच के नाम पर पुलिस ने बना डाली दस हजार पन्नों की फाइल, सफेदपोशों को बचाने की कोशिश !

सरकार तक अपनी बात पहुंचाने के लिए कुछ छोटे अध्ययन किये गये

सिविल सोसाइटी मंच से जुडे लोगों का कहना है कि इस नागरिक अभियान के तहत पिछले कुछ महीनों से शहरी साफ- सफाई, ट्रैफिक सुधार-सड़क सुरक्षा और पब्लिक स्पेस नियोजन विषय पर लगातार कई गतिविधियां केंद्रित रहीं है. सरकार तक अपनी बातों को पहुंचाने के लिए जमीन पर कुछ छोटे अध्ययन किये गये और संकलित जानकारियों औऱ सुझावों को सरकार के विभागों को प्रेषित किया गया. पत्राचार, सूचना के अधिकार, ट्वीटर और फेसबुक के माध्यम से भी कई प्रकार की सूचनाओं, शिकायतों और सुझावों का प्रेषण और उनका निबटारा होने की स्थितियों का निर्माण हुआ.

इसे भी पढ़ेंःरांची-टाटा हाइवे में हैं हजारों गड्ढे, अधूरा सड़क का निर्माण महीनों से रूका

स्टेडियम में हो रहे निर्माण के खिलाफ NGT में याचिका दायर की गयी

रांची शहर में खुले क्षेत्रों, तालाबों, पार्कों और मैदानों में लगातार बनाये जा कंक्रीट के जंगलों पर तीखी चोट करते हुए जयपाल सिंह स्टेडियम में हो रहे निर्माण के खिलाफ NGT में याचिका भी दायर की गयी, जो प्रक्रियाधीन है. भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को भी इस मंच की ओर से बच्चों के लिए खुले मैदानों में खेलने हेतु परिस्थितियां तैयार करने हेतु सहयोग करने का निवेदन किया गया, जिसपर उनके कार्यालय ने जरूरी संज्ञान भी लिया है.

इसे भी पढ़ें- गुजर गये 30 से 40 साल, 128 करोड़ की योजना हो गयी 6613 करोड़ की, फिर भी काम पूरा नहीं

madhuranjan_add

रांची शहर की हालत दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही है

सिविल सोसाइटी मंच की ओर से कहा गया है कि वर्तमान में रांची शहर की हालत दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही है, तालाबों-पार्कों-मैदानों-खुले क्षेत्रों में धड़ल्ले से भविष्य के पर्यावरण के नफा-नुकसान के आकलन के बिना भारी निर्माण किये जा रहे हैं, जो काफी विनाशकारी हैं. सड़कों पर गाड़ियों की भीड़ लगातार बढ़ती जा रही है और अच्छी पब्लिक ट्रांसपोर्ट सुविधाओं पर सरकारी निवेश नगण्य है, जिसकी वजह से गाड़ियां सड़कों पर रेंग रही है, और उनसे निकलता जहरीला धुआं पूरे वायुमंडल को प्रदूषित कर रहा है.

इसे भी पढ़ें- जेल ले जाने से पहले होती है कैदियों की बेशर्म जांच, गालियों से होती है शुरूआत

नगर निगम और सरकारी एजेंसियों के बीच कोई समन्वय नहीं

नगर निगम और सरकारी एजेंसियों के बीच कोई समन्वय नहीं है और कई स्थानों में निर्माण के वक़्त नियमों को पूरी तरह ताक पर रखकर शहर की हालत खराब करके रख दी गयी है. डिजिटल दौर में जन-शिकायत की जवाबदेह  डिजिटल प्रणाली कहीं दिखाई नहीं पड़ रही है, और जनता लगातार धक्के खाने के लिए मजबूर है. सड़कों पर पैदल चलने वालों के लिए कोई सुरक्षित व्यवस्था नहीं है क्योंकि उनके पैदल चलने के लिए निर्दिष्ट जगहों पर गाड़ियां पार्क की जा रहीं है.

इसे भी पढ़ें- ब्रजेश ठाकुर ने मनीषा दयाल को दी पॉपुलैरिटी, प्रातःकमल अखबार में अक्सर छपती थी खबर

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.   

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Averon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: