GiridihJharkhand

ग्रामीणों के घरों को जमींदोज करने पहुंचा गिरिडीह सीसीएल प्रबंधन का बुलडोजर, मुखिया शिवनाथ के विरोध के बाद वापस लौटा

Giridih: गिरिडीह सीसीएल प्रबंधन अचानक शनिवार को बुलडोजर लेकर सदर प्रखंड के महेशलुंदी के केलीबाद गांव पहुंच गया और एक साथ कई ग्रामीणों के घर पर बुलडोजर चलाने का प्रयास करने लगा. हालाकि महेशलुंडी के मुखिया शिवनाथ साहू समेत ग्रामीणों के विरोध के बाद सीसीएल प्रबंधन बैकफुट पर आया और वापस लौट गया. विरोध के कारण ही मुफ्फसिल थाना की पुलिस भी खामोश ही रही है. लेकिन इस दौरान केलीबाद गांव में सीसीएल की इस हरकत को लेकर जम कर हंगामा हुआ. इधर मुखिया शिवनाथ साहू ने सीसीएल प्रबंधन पर आरोप लगाते हुए कहा कि केलीबाद में किसी ग्रामीण का कोई नया घर नहीं है, जिसे सीसीएल प्रबंधन जमींदोज करना चाहता है. ये तो सीसीएल प्रबंधन की मनमानी को दर्शाता है, क्योंकि केलीबाद में जितने ग्रामीणों के घर हैं वो ईस्ट इंडिया कंपनी के वक्त हैं. कई दशक बीत चुके हैं और इतने दशक के बीच यही जमीन सरकार के अलग-अलग सार्वजनिक उपक्रम को मिलती चली गयी. लेकिन किसी उपक्रम ने केलीबाद के ग्रामीणों को उजाड़ने की हिम्मत नहीं दिखायी. अब सीसीएल प्रबंधन ये कारनामा कर रहा है, जबकि सच्चाई यही है कि अधिकारियों की मिलीभगत के कारण पिछले कई महीनों में भूमाफियाओं ने सीसीएल की जमीन को हड़प रखा है. जिसे सीसीएल प्रबंधन मुक्त कराने की हिम्मत नहीं करता. लेकिन जो कई दशक से हैं उन्हें हटाने की हिम्मत सीसीएल की ओर से किया जा रहा है. मुखिया शिवनाथ साहू ने सीसीएल प्रबंधन पर कई और गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि करोड़ों की कमाई होने के बाद भी गिरिडीह सीसीएल द्वारा सीएसआर फंड से कोई सामाजिक कार्य नहीं किये जा रहे हैं. ये कितना सही है. इधर भारी विरोध के बाद सीसीएल का बुलडोजर वापस चला गया.

इसे भी पढ़ें – Ranchi: पंकज मिश्रा की जमानत याचिका खारिज

Related Articles

Back to top button