न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बड़ी पार्टियों के ये उम्मीदवार खुद को ही नहीं करेंगे वोट

बीडी राम, सुनील सिंह, सुभाष यादव, चंद्रप्रकाश चौधरी, मनोज यादव और गोपाल साहू अपने लोस में नहीं दे सकेंगे वोट

2,972

Ranchi :  चुनावी रण जीतने और सांसद बनने की तमन्ना लिए उम्मीदवार जीतोड़ मेहनत कर रहे हैं. अपने संसदीय इलाकों के चौहदी का भ्रमण कर अपनी उपयोगिता बता रहे हैं. संसदीय क्षेत्र के लोगों को अपने पक्ष में मतदान करने की अपील कर रहे हैं.

mi banner add

लाखों की संख्या में जनता से वोट की उम्मीद लगाये ये उम्मीदवार खुद ही वोट नहीं करेंगे. सुनने में अजीब लगे, लेकिन ये सच है कि ये उम्‍मीदवार किसी भी शर्त में वोट नहीं करेंगे.

ऐसा इसलिए क्योंकि ये जिन लोकसभा क्षेत्रों चुनाव लड़ रहे हैं, वहां की मतदाता सूची में इनका नाम है ही नहीं. संसद पहुंचने के लिए इन्होंने हर तरीके का गुणा भागा कर देखा. जिसके बाद दूसरे लोकसभा क्षेत्रों से चुनाव लड़ने को अपने को सुरक्षित पाया.

इसे भी पढ़ें :डबल इंजन वाली सरकार के विकास की कहानी, न सड़क-न स्कूल-न पीने का पानी

सभी बड़ी पार्टियों से हैं ऐसे उम्मीदवार

भाजपा टिकट पर चतरा से चुनाव लड़ रहे सुनील सिंह, कांग्रेस के टिकट पर हजारीबाग से चुनाव लड़ रहे गोपाल साहू, गिरिडीह से एनडीए उम्मीदवार चंद्रप्रकाश चौधरी, चतरा से कांग्रेस उम्मीदवार मनोज यादव, राजद उम्मीदवार सुभाष यादव और धनबाद से कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ रहे कीर्ति आजाद, भाजपा से पलामू लोकसभा के उम्मीदवार बीडी राम भी खुद को वोट नहीं कर पायेंगे. इसका फायदा उठाने का भरपूर प्रयास स्थानीय प्रत्याशी कर रहे हैं.

Related Posts

पलामू : डायरिया से बच्चे की मौत, माता-पिता व भाई गंभीर, गांव में दर्जन भर लोग पीड़ित

स्वास्थ्य विभाग के डायरिया नियंत्रण की खुली पोल, आनन-फानन में कुछ लोगों को एंबुलेंस से भेजा अस्पताल

इसे भी पढ़ें :आजसू और जेएमएम के बीच ट्विटर वार: जेएएमएम के खिलाफ आजसू आक्रमक

चतरा से स्थानीय सांसद की थी मांग, किसी भी पार्टियों ने नहीं उतारा

चतरा लोकसभा में हर बार की बाहरी उम्मीदवार मिलने से लोगों में नाराजगी है. भाजपा, राजद, कांग्रेस के उम्मीदवार बाहरी लोकसभा क्षेत्रों से ताल्लुक रखते हैं.

चतरा के लोगों ने भाजपा उम्मीदवार सुनील सिंह के नामांकन के दौरान ही उनका विरोध किया था. चुनाव से पहले ही स्थानीय लोगों का कहना था कि, इसबार हमें स्थानीय उम्मीदवार ही चाहिए, लेकिन एक भी बड़ी पार्टियों ने स्थानीय उम्मीदवार नहीं उतारा है.

इसे भी पढ़ें :बाबूलाल मरांंडी के नामांकन में भी दिखी महागठबंधन की एकजुटता, हेमंत सोरेन ने कहा : एनडीए को हराना…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: