JharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

मीटर रीडिंग देर से होने पर भी मिलेगा सब्सिडी का लाभ, अधिकारियों ने कहा-नहीं घबरायें उपभोक्ता

365 दिन को ध्यान में रख कर की जाती है गणना

Ranchi : चार सौ यूनिट से अधिक बिजली उपभोग में उपभोक्ताओं को सब्सिडी नहीं मिल रही है. ऐसे में कई उपभोक्ता संशय में है कि मीटर रीडिंग की तारीख बढ़ने पर वे सब्सिडी से वंचित हो जा रहे है. रातु रोड, पिस्का मोड़, मोरहाबादी, कोकर के कई उपभोक्ताओं ने इस संबध में संशय व्यक्त किया. उपभोक्ताओं ने बताया कि उर्जा मित्रों की ओर से मीटर रीडिंग की कोई तय तारीख नहीं है. अमूमन इसमें देर होता है. जिससे सब्सिडी का फायदा नहीं मिल पाता है. इस पर जेबीवीएनएल की जीएम रेवेन्यू अंजना दास ने बताया कि उपभोक्ताओं को इससे घबराना नहीं चाहिये. निगम की ओर से सब्सिडी तय करने से पहले ही इसकी गणना की गयी थी. जिसमें दिन के हिसाब से सब्सिडी दर तय की गयी है. ऐसे में चार सौ यूनिट से अधिक बिल होने पर उपभोक्ता सब्सिडी के दायरे में आ जायेंगे. क्योंकि गणना 365 दिन को ध्यान में रख कर की जायेगी. दिन बढ़ने पर पिछले महीने हुई मीटर रीडिंग को ध्यान में रखकर सब्सिडी का लाभ मिल जायेगा.

पहले से लागू है योजना

अंजना दास ने कहा कि ये व्यवस्था पहले से लागू है. ऐसे में उपभोक्ताओं को नहीं घबराना चाहिये. चार सौ यूनिट की व्यवस्था लागू करने से पहले निगम ने सारी तैयारियां कर ली थी.

क्या है व्यवस्था

Sanjeevani

राज्य सरकार की ओर से ये व्यवस्था लागू की गयी है. जिसके मुताबिक 100 यूनिट से ज्यादा और अधिकतम 400 यूनिट तक बिजली खपत करने वाले उपभोक्ताओं को राज्य सरकार सब्सिडी देगी. लेकिन 401 यूनिट से ज्यादा खपत करने वालों को 6.75 रुपये प्रति यूनिट की दर से बिल का भुगतान करना होगा. वहीं, 100 यूनिट या इससे अधिक बिजली की खपत करने वाले उपभोक्ताओं को बिल का भुगतान नहीं करना होगा.

निगम के पास लगभग 49 लाख उपभोक्ता

जेबीवीएनएल के पास लगभग 49 लाख उपभोक्ता है. सौ यूनिट मुफ्त बिजली पाने वालें उपभोक्ताओं की संख्या लगभग 32 लाख के आस पास है. इसमें लगभग 27 लाख ऐसे ग्रामीण उपभोक्ता है, जिनको सीधे इस योजना का लाभ मिलेगा. शहरी उपभोक्ताओं में सौ यूनिट तक बिजली उपभोग करने वाले उपभोक्ताओं की संख्या लगभग पांच लाख है. ग्रामीण उपभोक्ताओं को छोड़ शहरी क्षेत्र के उपभोक्ता सब्सिडी दर से बाहर हो सकते है. अगर ये उपभोक्ता 400 यूनिट से अधिक बिजली का उपभोग करते है तो.

इसे भी पढ़ें  :

Related Articles

Back to top button