न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हजारीबागः अदालत को कागजात नहीं सौंपने के आरोप में सिविल सर्जन के वेतन पर लगी रोक

1,931

Hazaribagh:  न्यायालय के आदेश की अवमानना करने के आरोप में अगले आदेश तक के लिए हजारीबाग की सिविल सर्जन ललिता वर्मा के वेतन पर रोक लगा दी गयी है. प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश सत्येंद्र कुमार की अदालत ने यह न्यायिक आदेश जारी किया है. आदेश की प्रति जिले के उपायुक्त के साथ ट्रेजरी व सिविल सर्जन को भी भेजी जा रही है.

इसे भी पढ़ेंः इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड दिल्ली ने 34 एग्जीक्यूटिव पदों के लिए आवेदन मांगे

Aqua Spa Salon 5/02/2020

 क्या है मामला

Related Posts

#Bermo: उद्घाटन के एक माह बाद भी लोगों के लिए नहीं खोला जा सका फ्लाइओवर और जुबली पार्क

144 करोड़ की लागत से बना है, डिप्टी चीफ ने कहा-अगले सप्ताह चालू कर दिया जायेगा

हजारीबाग न्यायालय में चल रहे एक मुकदमा में प्रतिवेदन समय पर नहीं देने के आरोप में सिविल सर्जन ललिता वर्मा के वेतन पर रोक लगायी गयी है. यह आदेश प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत ने जारी किया है. बरही थाना कांड संख्या 485 /18 में एक पीड़िता का जख्म प्रतिवेदन न्यायालय में जमा नहीं किया गया.

इस कारण पीड़िता को न्याय देने और अपराधी को सजा सुनाने में न्यायालय को विलंब हो रहा है. उल्लेखनीय कांड संख्या 485/18 में एक आरोपी केंद्रीय कारा हजारीबाग में विचाराधीन बंदी है. वह कांड का मुख्य आरोपी है. जिला एवं सत्र न्यायाधीश के न्यायालय में सत्रवाद संख्या 96/19 के तहत सुनवाई चल रही है.

मामले में न्यायालय द्वारा इस आदेश के पूर्व हजारीबाग के सिविल सर्जन को कई बार जख्म प्रतिवेदन समर्पित करने का आदेश दिया गया था. लेकिन न्यायालय के आदेश के बाद भी सीएस द्वारा जख्म प्रतिवेदन नहीं जमा किया गया.

इसे भी पढ़ेंः पानी की समस्या को लेकर रेल कर्मियों ने घेरा आईओडब्ल्यू ऑफिस, जमकर किया हंगामा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like