ChaibasaJharkhandNEWS

ट्वीट करनेवाले युवक को थाना लाने और धमकाने का आरोप सही निकला, कुमारडुंगी थाना प्रभारी और ASI लाइन क्लोज

सामुदायिक पुलिसिंग कार्यक्रम के तहत प्लस टू उच्च विद्यालय कुमारडुंगी के नौंवी कक्षा के छात्र को मिले डेस्कटॉप को रख लिये जाने पर किया था ट्वीट

Chaibasa :  पश्चिमी सिंहभूम जिले के कुमारडुंगी में नौंवी कक्षा के एक बच्चे को सामुदायिक पुलिसिंग कार्यक्रम में पुरस्कार में मिला कंप्यूटर टीचर द्वारा रख लिये जाने संबंधी ट्वीट करने वाले युवक को फोन पर धमकाने और थाना लाने के आरोप में एसपी अजय लिंडा ने थाना प्रभारी अंकिता सिंह और एएसआई प्रकाश कुमार को लाइन हाजिर कर दिया है. युवक रमेश बेहरा ने बुधवार को एसपी को आवेदन देकर  शिकायत की थी कि कुमारडुंगी थानेदार अंकिता सिंह और एएसआइ प्रकाश कुमार ने उसे फोन पर गालियां दीं, धमकाया और थाने आने को कहा. जब वह नहीं गया, तो रात को पुलिस उसे घर से उठा कर थाना ले आयी और वहां उसके साथ मारपीट की गयी. रमेश बेहरा ने अपने आरोप के समर्थन में थाना प्रभारी व एएसआइ के साथ फोन पर हुई बातचीत की रिकॉर्डिंग भी दी थी. इसपर एसपी ने मामले की जांच का जिम्मा अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, जगन्नाथपुर को सौंपा था. एसडीपीओ की जांच में थाना प्रभारी अंकिता सिंह एवं सअनि प्रकाश कुमार द्वारा रात्रि में रमेश बेहरा को थाना लाने तथा मोबाइल पर धमकी देने की पुष्टि हुई है. एसडीपीओ की रिपोर्ट के आधार पर उनके इस कृत्य को पुलिस की छवि को धूमिल करनेवाला मानते हुए दोनों को लाइन हाजिर करने का आदेश एसपी ने दिया है.

इसे भी पढ़ें – धनबाद : सुरक्षाकर्मियों की कोयला चोरों से भिड़ंत, महिला और बच्चे को लगी गोली

advt

क्या है एसडीपीओ की जांच रिपोर्ट में

जांच रिपोर्ट के अमनुसार सामुदायिक पुलिसिंग के तहत जिला उपकरण बैंक से कुमारडुंगी के 3 छात्रों को चुना गया था. दो छात्रों को मोबाइल तथा तीसरे छात्र होलीन बेहरा को डेस्कटॉप दिया गया था. डेस्कटॉप देते समय बताया गया था कि वह डेस्कटॉप स्कूल में सामूहिक रूप से प्रयोग होगा. इसी संदर्भ में वह डेस्कटॉप सामूहिक रूप से स्कूल में प्रयोग हो रहा था. छात्र होलीन बेहरा शिकायतकर्ता रमेश बेहरा का साला है. रमेश बेहरा ने होलिन बेहरा पर दबाव बनाया कि वह डेस्कटॉप मांग कर घर ले आये. इस पर स्कूल द्वारा बताया गया कि डेस्कटॉप को सामूहिक रूप से स्कूल में प्रयोग हेतु दिया गया है. इसके बाद रमेश बेहरा ने एक ट्वीट किया गया, जिसमें चाईबासा पुलिस एवं अन्य पदाधिकारियों को टैग किया गया. इस ट्वीट के आधार पर थाना प्रभारी कुमारडुंगी के आदेशानुसार सअनि प्रकाश कुमार ने रमेश बेहरा को फोन कर डेस्कटॉप से संबंधित बातें बतायीं तथा ट्वीट डिलीट करने और थाना आने के लिए कहा. थाना प्रभारी अंकिता सिंह ने भी रमेश को फोन कर क्त बातें बतायी. इस क्रम में धमकाने की बात प्रकाश में आयी तथा ऑडियो वायरल हुआ. उसके उपरांत भी रमेश बेहरा थाना नहीं आये. इसके बाद थाना प्रभारी के आदेशानुसार उन्हें रात्रि में थाना लाया गया. रमेश बेहरा द्वारा उनके साथ मारपीट से संबंधित आरोप की जांच में पुष्टि नहीं हो पायी है. तत्पश्चात उन्हें डेस्कटॉप भी दे दिया गया.

क्या है एसपी कार्यालय से जारी आदेश में

एसपी कार्यालय से जारी आदेश में कहा गया है कि इस प्रकरण में थाना प्रभारी अंकिता सिंह एवं सअनि प्रकाश कुमार द्वारा रात्रि में उन लोगों को थाना लाना तथा मोबाइल पर धमकी देना पुलिस की छवि को धूमिल करता है. थाना प्रभारी जैसे महत्वपूर्ण पद पर रहते हुए धैर्य एवं संयम खोकर आम नागरिकों से आवेशपूर्ण वार्तालाप भी उचित नहीं है. पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी पुलिस पदाधिकारियों को पूर्व में ही कई बार निर्देश दिया गया था कि आम जनों से उनका व्यवहार मर्यादित हो. इसके उपरांत भी दोनों पुलिस पदाधिकारियों द्वारा इस प्रकार का आचरण किया गया. दोनों पुलिस पदाधिकारियों को पुलिस अधीक्षक चाईबासा के द्वारा तत्काल प्रभाव से पुलिस केंद्र चाईबासा स्थानांतरित किया गया है.

इसे भी पढ़ें – चाकुलिया : बोलेरो से सीधी टक्कर में बाइक सवार युवक की मौत, दूसरा गंभीर रूप से घायल

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: