न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर झूठ का पुलिंंदा, भड़के मनमोहन के पूर्व एनएसए नारायणन

पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एमके नारायणन ने मंगलवार को कहा कि किताब द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर : द मेकिंग एंड अनमेकिंग ऑफ मनमोहन सिंह में किये गये 80 प्रतिशत दावे झूठे हैं.

48

NewDelhi :  पूर्व पीएम मनमोहन सिंह पर लिखी संजय बारू की किताब के मामले में नया मोड़ आ गया है. बता दें कि पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एमके नारायणन ने मंगलवार को कहा कि किताब द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर : द मेकिंग एंड अनमेकिंग ऑफ मनमोहन सिंह में किये गये 80 प्रतिशत दावे झूठे हैं. इस क्रम में   संजय बारू की आलोचना करते हुए नारायणन ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मीडिया सलाहकार इतने बड़े कद के नहीं थे.  मनमोहन सिंह के करीबी माने जाने वाले पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) का आरोप है कि संजय बारू ने 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान पैसा कमाने के लिए किताब लिखी है.  जान लें कि भारत चैंबर ऑफ कॉमर्स के एक सत्र में नारायणन ने कहा कि यह किताब पूरी तरह झूठ पर आधारित है.  उनके 80 प्रतिशत दावे झूठे हैं.  कहा कि सरकार में वह इतने बड़े नहीं थे और उनका कोई महत्व नहीं था.

एमके नारायणन  ने आरोप लगाया कि मीडिया सलाहकार के रूप में संजय बारू सही से काम नहीं कर पाये. वे 2008 में चले गये क्योंकि उन्हें लगा कि कांग्रेस नीत यूपीए सरकार सत्ता में वापस नहीं आयेगी. कहा कि  किताब की विषयवस्तु पूरी तरह उनका अपना नजरिया है. बता दें कि मनमोहन सरकार की बड़ी उपलब्धियों में शामिल भारत-अमेरिका परमाणु समझौते में नारायणन की महत्वपूर्ण भूमिका मानी जाती है.

फिल्म द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर को लेकर काफी विवाद हो रहा है

किताब पर बनी फिल्म द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर को लेकर काफी विवाद हो रहा है;  पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने इस फिल्म को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा था; कहा था कि अगर एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर पर फिल्म है तो डिजास्ट्रस प्राइम मिनिस्टर टाइटल से भी एक फिल्म बननी चाहिए.  यह भविष्य में बनाई जायेगी. वहीं फिल्म में पूर्व पीएम डॉ मनमोहन सिंह का किरदार निभाने वाले अनुपम खेर ने कांग्रेस पर निशाना साधा था.  उन्होंने कहा था कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा था और ट्विटर के जरिए राहुल गांधी पर बरसे थे.

Related Posts

मोदी सरकार खुफिया अफसरों के माध्यम से  महबूबा मुफ्ती  और उमर अब्दुल्ला का रुख भांप रही है!

केंद्र सरकार  घाटी में शांति और सद्भाव स्थापित करने के मकसद से राज्य दो पूर्व मुख्यमंत्रियों को साधने की कोशिश में जुटी है.

SMILE

अनुपम खेर ने कांग्रेसियों द्वारा एक थिएटर में तोड़फोड़ के बाद ट्वीट किया था.  उसमें उन्होंने लिखा था कि, डियर राहुल गांधी, मुझे नहीं लगता कि थिएटर में चल रही द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर के दौरान तोड़फोड़ करने वाले आपके समर्थकों ने आपके द्वारा किये गये फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेसन के ट्वीट पढ़े होंगे.

 इसे भी पढ़ें : 2019 : रोजगार मुद्दा होगा कांग्रेस के लिए, रघुराम राजन निभा रहे अहम भूमिका

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: