न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बाढ़ पीड़ितों के लिए मदद मांगने UN पहुंचे थरूर, केरल सरकार ने कहा- नहीं भेजा

299

कांग्रेस के सीनियर नेता केरल के सासंद शशि थरूर फिर एक विवाद में घिर गये हैं. विवाद की वजह उनका नया ट्वीट है.

NewDelhi : कांग्रेस के सीनियर नेता केरल के सासंद शशि थरूर फिर एक विवाद में घिर गये हैं. विवाद की वजह उनका नया ट्वीट है. शशि ने अपने ट्वीट में लिख कर जानकारी दी कि वे केरल बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए UN पहुंचे हैं. और वे लगातार राज्य सरकार के संपर्क में भी हैं.  बता दें कि अपने ट्वीट में उन्होंने केरल के सीएम और सीएमओ केरल को भी टैग किया है.  लेकिन जब केरल सरकार ने शशि थरूर के दावे को खारिज कर दिया तो विवाद होना ही था.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड कैडर आईएएस में भी चार लॉबी, एक्शन, रिएक्शन और इमोशन से भरपूर

hotlips top

केरल सरकार ने कह दिया कि शशि राज्य सरकार के दूत नहीं हैं यह जानकारी न्यूज 18 ने अपने सूत्रों के हवाले से दी है.  उसके अनुसार सीएमओ केरल ने कहा कि उन्होंने UN में अपना कोई प्रतिनिधि नहीं भेजा और ना ही थरूर उनके दूत हैं.

इसे भी पढ़ेंः अनिल अंबानी का पत्र राहुल को , राफेल पर आपको गलत जानकारी दी गयी है

30 may to 1 june

शशि थरूर को भाजपा ने अपने निशाने पर ले लिया

 इसके बाद हंगामा शुरू हो गया. शशि थरूर को भाजपा ने अपने निशाने पर ले लिया.  भाजपा ने थरूर पर आरोप लगाया कि वे गंभीर नहीं हैं.  हालांकि थरूर का निर्वाचन क्षेत्र बाढ़ की चपेट नहीं आया है. साथ ही इस मामले में निर्णय लेने का अधिकार भी थरूर के पास नहीं है.  लेकिन थरूर ने अपने पिछले संबंधों का जिक्र करते हुए UN  से मदद मांगी है.  अब कांग्रेस की परेशानी बढ़ने की संभावना है, क्योंकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जर्मनी और यूके में एनआरआई को संबोधित करने वाले हैं.  

सूत्रों के अनुसार राहुल गांधी के साथ शशि शरूर भी जा सकते हैं . हालांकि कांग्रेस ने शशि थरूर का बचाव करते हुए कहा है कि वह जिम्मेदार नागरिक हैं और वह UN  से मदद पाने के लिए अपने पिछले संबंधों का उपयोग कर रहे हैं.  इसमें कुछ गलत नहीं है .  

 

इसे भी पढ़ेंःमसानजोर के विस्थापितों को पहचान दिलाना पहली प्राथमिकता : डॉ लुईस मरांडी

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like