National

ठाकरे ने औरंगाबाद ट्रेन हादसे के शिकार मजदूरों की मौत पर दुख व्यक्त किया, पीड़ित परिवार को पांच-पांच लाख मुआवजे की घोषणा

Mumbai: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने औरंगाबाद में ट्रेन हादसे का शिकार हुए श्रमिकों की मौत पर दुख व्यक्त करते हुए प्रत्येक पीड़ित परिवार को पांच-पांच लाख रुपये की मुआवजा देने की शुक्रवार को घोषणा की.

मध्य प्रदेश के कम से कम 14 श्रमिकों की मौत महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले के करमाड रेलवे स्टेशन के निकट हो गयी. ये श्रमिक रेल पटरी पर सो रहे थे और एक मालवाहक ट्रेन की चपेट में आ गये इस दुर्घटना में दो अन्य श्रमिक घायल हैं.

इसे भी पढ़ें-  कोरोना के बहाने भारत अब “सर्विलांस स्टेट” बनने जा रहा है!

ram janam hospital
Catalyst IAS

थक कर पटरियों पर सो गये थे मजदूर, रौंद कर चली गयी ट्रेन

The Royal’s
Sanjeevani

एक अधिकारी ने बताया जालना से पैदल भुसावल जा रहे मजदूर मध्य प्रदेश के अपने गांवों की ओर लौट रहे थे और थक कर पटरियों पर सो गये थे. इस समूह के साथ चल रहे दो मजदूर जीवित बच गये क्योंकि वे रेल की पटरियों से कुछ दूरी पर सो रहे थे. उन्होंने बताया कि घायलों का इलाज चल रहा है.

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाए लॉकडाउन के कारण ये प्रवासी मजदूर बेरोजगार हो गये थे और अपने घर जाना चाहते थे. वे पुलिस से बचने के लिए रेल की पटरियों के किनारे पैदल चल रहे थे.

मुख्यमंत्री ने इस घटना पर दुख व्यक्त करते हुए शोक संतप्त परिवारों को मुख्यमंत्री राहत कोष से पांच-पांच लाख रुपये देने की घोषणा की. उन्होंने कहा कि घायलों के इलाज का खर्च राज्य सरकार उठाएगी.

ठाकरे ने कहा कि वह श्रमिकों को ले जाने के लिए ज्यादा ट्रेन चलाने के संबंध में केंद्र सरकार से लगातार संपर्क में हैं. देशव्यापी बंद की वजह से बड़ी संख्या में मजदूर देश के कई हिस्सों में फंसे हुए हैं. उन्होंने कहा कि इस संबंध में जल्द ही व्यवस्था की जाएगी. श्रमिकों को धैर्य नहीं खोना चाहिए.

इसे भी पढ़ें-  धिक्कार है: आप सरकारी आदेश दिखाते रह गये और वह मर गया

ठाकरे की मजदूरों से अपील- खतरे में न डालें अपनी जान

इस घटना की जानकारी मिलने के बाद ठाकरे ने मुख्य सचिव अजय मेहता और रेल अधिकारियों से विस्तृत जानकारी हासिल करने के लिए बातचीत की. ये श्रमिक जालना के एक स्टील उत्पादन संयंत्र में काम करते थे. जालना मध्य महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले के पड़ोस में है.

ठाकरे ने श्रमिकों से अपील की है कि वे अपनी जान खतरे में नहीं डालें और आश्रय शिविरों में ही रहें. उनकी यात्रा को ले कर व्यवस्था की जा रही है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार लगातार रेल मंत्रालय के संपर्क में है. एक ट्रेन जल्द ही मुंबई से रवाना होगी. मैं श्रमिकों से अपील करता हूं कि वे अपनी जान खतरे में न डालें.

ठाकरे ने श्रमिकों से अपील की है कि जब तक उन्हें ट्रेन की समय-सारिणी के बारे में सूचना न दे दी जाए तब तक वे शिविरों से बाहर न निकलें. इन शिविरों में खाना और दवाओं की व्यवस्था है.

इसे भी पढ़ें-  #CoronaVirus : बिहार में कोरोना केस बढ़कर 556 हुआ, मुंगेर बना सूबे का हॉटस्पॉट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button