न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आतंकी मॉड्यूल अबु हुजैफा अल पाकिस्तानी भारतीय युवाओं को आईएस में शामिल होने के लिए बरगलाता था 

आतंकवादी संगठन IS के जिस नये मॉड्यूल का खुलासा राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने किया है, खबरों के अनुसार वह अबु हुजैफा अल पाकिस्तानी के नाम से ऑनलाइन कंट्रोल हो रहा था.  

1,152

NewDelhi : आतंकवादी संगठन IS के जिस नये मॉड्यूल का खुलासा राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने किया है, खबरों के अनुसार वह अबु हुजैफा अल पाकिस्तानी के नाम से ऑनलाइन कंट्रोल हो रहा था.  इसे अलग-अलग ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से संचालित किया जा रहा था, जिसके निशाने पर कई भारतीय युवा थे. सूत्रों के अनुसार यह मॉड्यूल दक्षिण-पूर्व एशिया के युवाओं को आईएस में शामिल होने के लिए बरगलाता था. फेसबुक पर संपर्क होने के बाद युवाओं को ग्रुप में जोड़ा जाता था और टेलीग्राम व थ्रीमा के जरिए चैटिंग की जाती थी. इस संबंध में इंटेलिजेंस एजेंसी के एक सूत्र ने बताया कि इस हैंडल की जांच पर जानकारी मिली है कि इसे पाकिस्तान के नागरिक द्वारा संचालित किया जा रहा था जिसे काफी बेहतर ट्रेनिंग दी गयी थी और वह पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के सहारे पर यह युवाओं को जोड़ रहा था. सू्त्रों से मिली जानकारी के अनुसार अबु हुजैफा हैंडल के बारे में सुरक्षा एजेंसियों की जांच में कई बार जानकारी मिली. बता दें कि तेलंगाना पुलिस की काउंटर इंटेलिजेंस यूनिट की जांच में भी इस हैंडल का पता चला था,  जिसके आधार पर छापेमारी से पूर्व काफी अहम जानकारी मिली.

पिछले साल से यह हैंडल काफी ऐक्टिव हो गया था  

एक अधिकारी ने जानकारी दी कि पिछले साल से यह हैंडल काफी ऐक्टिव हो गया था.  खबरों के अनुसार इंडियन मुजाहिदीन से बगावत कर बाद में आईएस के खोरासन मॉड्यूल में शामिल होने वाला शफी अरमार इस हैंडल को संचालित कर रहा था. शफी अरमार भारतीय युवाओं को आईएस में शामिल करने के लिए मदद करता था.  सूत्रों के अनुसार कर्नाटक निवासी अरमार को पिछले साल सीरिया में मार दिया गया.  उसने लगभग 1000 युवाओं से आईएस में शामिल होने के लिए संपर्क किया. इनमें ज्यादातर युवा दक्षिण एशिया के थे.  जानकारी के अनुसार उसका भाई सुल्तान अरमार भी दो साल पहले ड्रोन स्ट्राइक में मारा गया था.  एक अधिकारी का दावा था कि सोहैल मुफ्ती को इसलिए चुना गया क्योंकि वह हथियारों के काम में पहले शामिल रहा था. मास्टर माइंड 29 वर्षीय मुफ्ती मोहम्मद सुहैल  पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अमरोहा का रहने वाला है.

नये मॉड्यूल हरकत-उल-हर्ब-इस्लाम का खुलासा किया गया

बता दें कि एनआईए द्वारा बुधवार को आईएस के इस नये मॉड्यूल हरकत-उल-हर्ब-इस्लाम का खुलासा किया गया है. इसका सामान्य अनुवाद इस्लाम के हितों के लिए लड़ाई करना है. इसके लिए एनआईए ने दिल्ली और यूपी में 16 जगहों पर एक साथ छापे मार कर दस लोगों को  गिरफ्तार किया था. दिल्ली की एक अदालत ने आईएसआईएस मामले में गिरफ्तार किये गये इन 10 लोगों को गुरुवार  को 12 दिन की एनआईए हिरासत में भेज दिया है. इस मामले में  गिरफ्तार लोगों में मुफ्ती मोहम्मद सुहैल उर्फ हजरत (29), अनास युनूस (24), राशिद जफर रक उर्फ जफर (23), सईद उर्फ सैयद (28), सईद का भाई रईस अहमद, जुबैर मलिक (20), जुबैर का भाई जैद (22), साकिब इफ्तेकार (26), मोहम्मद इरशाद : करीब 20 साल : और मोहम्मद आजम (35) शामिल हैं.  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: