न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

टेरर फंडिंग : FATF से पाकिस्तान को बड़ा झटका, किया ब्लैक लिस्ट

1,066

Washington / Canberra : फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाल दिया है. मतलब कि पाकिस्तान को संदिग्ध सूची में डाल दिया गया है.

जिससे की उसे बड़ा झटका लगा है. की ओर से संदिग्ध सूची में डाले जाने के बाद पाकिस्तान को एक और बड़ा झटका लगा है. एफएटीएफ ने मानकों पर खरा नहीं उतरने के कारण पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट कर दिया है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें- तुपुदाना इंडस्ट्रीयल एरिया : बचे 100 कारखाने भी बंदी की कगार पर, सिर्फ पांच फीसदी ही हो रहा काम

40 अनुपालन मानकों में से 32 का नहीं किया पालन 

एशिया प्रशांत समूह (एपीजे) ने यह भी पाया कि पाकिस्तान ने धन शोधन और आतंकवाद के वित्त पोषण संबंधी 40 अनुपालन मानकों में से 32 का पालन नहीं किया. एफएटीएफ एपीजी बैठक ऑस्ट्रेलिया की राजधानी कैनबरा में आयोजित की गयी थी और दो दिन में करीब सात घंटे से ज्यादा समय तक चर्चा चली.

एफएटीएफ की एशिया प्रशांत शाखा ने आतंकियों के वित्‍तपोषण और मनी लॉन्ड्रिंग को रोकने में असमर्थ रहने पर पाकिस्‍तान को ब्‍लैक लिस्‍ट में डाला है. घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले एक भारतीय अधिकारी ने बताया कि एपीजे ने पाकिस्तान को मानकों पर खरा नहीं उतरने की वजह से ईईएफयू लिस्ट (काली सूची) में डाल दिया.

इसे भी पढ़ें- क्या भ्रष्टाचार के इन आरोपियों पर भी होगी कार्रवाई ! जानें कौन हैं वो 7, जिन पर नहीं है केंद्र का ध्यान

धन शोधन के 11 प्रभावी मानकों में से पाकिस्तान 10 में फेल

आतंकवादी गतिविधियों के लिए धन मुहैया कराना और धन शोधन के 11 प्रभावी मानकों में से पाकिस्तान 10 में खरा नहीं उतर पाया.

Related Posts

चास SDM IAS शशि प्रकाश ने आखिर क्यों कहा- इसे दूर ले जाकर इतनी जोर से मारो कि आवाज मुझ तक आये, देखें वीडियो

चास SDM IAS शशि प्रकाश सिंह पर प्रभारी जिला उपनिर्वाचन पदाधिकारी को पीटने का आरोप

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

वहीं एक अन्य अधिकारी ने बताया कि अब पाकिस्तान को अक्टूबर में काली सूची में जाने से बचने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए. अक्टूबर में एफएटीएफ की 27 बिंदू कार्ययोजना की समय-सीमा समाप्त होती है.

गौरतलब है कि पाकिस्तान के लिए ब्लैक लिस्ट होने के बाद मुश्किलें और भी ज्यादा बढ़ गयी हैं. अब पाकिस्तान को दुनिया में कर्ज पाना और ज्यादा मुश्किल हो जायेगा.

इसे भी पढ़ें- बिना सोचे-समझे दिये गये कर्ज से बिगड़े देश के आर्थिक हालात : नीति आयोग

पाक इकॉनमी पर पड़ सकता है असर

जैसा कि एफएटीएफ ने पाक को ब्लैक लिस्ट कर दिया है, इसका मतलब यह हुआ कि अब पाकिस्तान को मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फाइनैंसिंग के खिलाफ जंग में सहयोग नहीं मिलेगा.

अब पाक को वर्ल्ड बैंक, आइएमएफ, एडीबी, यूरोपियन यूनियन जैसी संस्थाओं से कर्ज मिलना मुश्किल हो सकता है. वहीं मूडीज, स्टैंडर्ड ऐंड पूअर और फिच जैसी एजेंसियां उसकी रेटिंग घटा सकती हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like