ChatraJharkhandLead NewsNationalTOP SLIDER

टेरर फंडिंगः NIA की बड़ी कार्रवाई, टीएसपीसी सुप्रीमो के नाम पर चल रहा कॉलेज सील

Chatra. सीसीएल की मगध-आम्रपाली परियोजना में उग्रवादी-प्रबंधन-ट्रांसपोर्टर गठजोड़ और टेरर फंडिंग की जांच कर रही नेशनल इन्वेस्टिंग एजेंसी ने एक बड़ी कार्रवाई की है. चतरा जिले के लावालौंग में चलाये जा रहे गोपाल सिंह भेक्ता इंटर कॉलेज (जीएसबी कॉलेज) को एनआईए ने सील कर दिया है. आरोप है कि इस कॉलेज की जमीन की खरीदारी और इसपर बनाये गये भवन में टेरर फंडिंग के पैसे का इस्तेमाल हुआ है.

इसे भी पढ़ें :राजकपूर से अलग होकर Suicide करने की सोच रही थीं Nargis , जानिये फिर किसने उबारा    

गोपाल सिंह भोक्ता उर्फ ब्रजेश गंझू उग्रवादी संगठन टीएसपीसी का सुप्रीमो है. एनआईए उसके खिलाफ टेरर फंडिंग के मामले में पहले से जांच कर रही है. आरोप है कि उग्रवादी संगठनों के नाम पर चतरा के टंडवा स्थित मगध व आम्रपाली कोयला परियोजना से जुड़े ठेकेदार, कोयला व्यवसायी, कोल ट्रांसपोटर्स से लेवी-रंगदारी वसूलकर उग्रवादी कमांडरों ने अकूत संपत्ति अर्जित की है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

ब्रजेश गंझू के नाम पर कॉलेज

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

बताया जाता है कि यह कॉलेज लगभग ढाई एकड़ (245 डिसमिल) भूमि पर स्थित है. यह जमीन गोपाल सिंह भोक्ता उर्फ ब्रजेश गंझू की पत्नी चंपा देवी के नाम पर बतायी जाती है. कॉलेज के संचालन के लिए एक कमेटी बनी है. बता दें कि कोल परियोजनाओं में टेरर फंडिंग की जांच कर रही एनआईए को कई अहम सुराग हाथ लगे हैं. इसी साल जनवरी महीने में मोस्ट वांटेड नक्सली 15 लाख के इनामी मुकेश गंझू ने पुलिस के समक्ष सरेंडर किया था.

इसे भी पढ़ें :Ranchi News : ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता के लिए जनप्रतिनिधियों से लेंगे सहयोग, युद्ध स्तर पर करें कार्य

उससे पूछताछ में राज्य में कोल परियोजनाओं से लेवी वसूली के नेटवर्क का खुलासा हुआ है. मुकेश गंझू ने कोल परियोजना शुरू करवाने में उग्रवादी संगठन की भूमिका के बारे में पुलिस को अहम जानकारियां दी है. उसने बताया है कि सीसीएल के अधिकारियों के साथ-साथ बीजीआर कंपनी के लोगों से भी टीपीसी उग्रवादियों की सांठगांठ थी.

टेरर फंडिंग मामले में पहले ही हुई है चार्जशीट

बता दें कि एनआईए ने टेरर फंडिंग मामले में पूर्व में चार्जशीट दाखिल कर चुकी है. जिन उग्रवादी कमांडरों के खिलाफ चार्जशीट हुई है, उनमें गोपाल सिंह भोक्ता उर्फ ब्रजेश गंझू उर्फ सरदार जी, मुकेश गंझू उर्फ मुनेश्वर गंझू, गांव कुटील, चतरा और आक्रमण जी उर्फ नेता जी उर्फ रवींद्र गंझू उर्फ राम विनायक सिंह भोक्ता उर्फ विनायक सिंह भोक्ता, गांव मनातू, चतरा, कमलेश गंझू गांव टिकुलिया, चतरा, करमपाल गंझू उर्फ अनुज गंझू उर्फ अनीश जी उर्फ दानवीर गंझू, गांव हदियाखुर्द, चतरा, झारखंड, अमर सिंह भोक्ता उर्फ लक्ष्मण गंझू उर्फ ललनजी उर्फ कोहराम जी उर्फ इब्राहिम जी उर्फ अमर गंझू शामिल हैं.

टेरर फंडिंग में ईडी ने भी की है कार्रवाई

एनआईए के अलावा प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) भी टेरर फंडिंग के मामले में गहरी नजर रख रही है. कुछ माह पहले ईडी ने तृतीय सम्मेलन प्रस्तुति कमेटी (टीएसपीसी) के उग्रवादी बिंदेश्वर गंझू उर्फ विनोद कुमार गंझू उर्फ बिंदू गंझू और उसकी कंपनी मां गंगा कोल ट्रेडिंग प्राइवेट लिमिटेड संबद्ध 2.03 करोड़ रुपये मूल्य के वाहनों को जब्त कर लिया था.

इसे भी पढ़ें : Hazaribagh News : एसडीपीओ के नेतृत्व में अवैध बालू लदे 4 ट्रैक्टर जब्त, एक चालक धराया

 

Related Articles

Back to top button