JharkhandRanchi

नये एसओआर बनने तक 2018 के निर्धारित दर पर ही जारी होगा टेंडर और भुगतान

विज्ञापन
  • पथ निर्माण विभाग ने जारी किया संकल्प पत्र
  • नये एसओआर के लिए विकास आयुक्त की अध्यक्षता में छह सदस्यीय समिति गठित

Ranchi  :  राज्य सरकार के पथ निर्माण विभाग ने संकल्प पत्र जारी किया है. इसके अनुसार नये अनुसूचित दर (एसओआर) के निर्धारण तक 2018 के निर्धारित दर पर ही टेंडर निकाला जायेगा. साथ ही उसी दर के तहत भुगतान भी होगा. यह तत्कालीन व्यवस्था होगी.

नये एसओआर के गठन के बाद यह व्यवस्था स्वतः समाप्त हो जायेगी. नये एसओआर के निर्धारण को लेकर झारखंड राज्य के अंतर्गत सभी विभागों के एसओआर के लिए विकास आयुक्त की अध्यक्षता में छह सदस्यीय समिति का गठन किया गया है.

सरकार ने समिति को नये एसओआर के निर्धारण को लेकर राज्य सरकार द्वारा पारदर्शी प्रक्रिया अपनाने का निर्देश दिया गया है.

advt

इसे भी पढ़ें – पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी कोरोना पॉजिटिव, मानसून सत्र में लिया था हिस्सा

उच्चस्तरीय बैठक में सीएम ने दी थी सहमति

इससे पहले यह जानकारी आयी थी कि जनवरी से जारी टेंडर पर लगी रोक को सरकार जल्द हटा सकती है. सरकार ने फिलहाल 2018 के ही शेड्यूल ऑफ रेट (एसओआर) पर टेंडर कराने का फैसला किया है.

पथ निर्माण विभाग द्वारा भेजे गये प्रस्ताव पर पथ निर्माण मंत्री के रूप में हेमंत सोरेन ने अपनी सहमति दे दी है. जल्द ही इसे राज्य मंत्रिपरिषद द्वारा इस पर स्वीकृति मिल जाने की संभावना जतायी गयी थी. इससे पहले पिछले दिनों मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में नया शेड्यूल ऑफ रेट बनाने को लेकर उच्चस्तरीय बैठक हुई थी.

इसे भी पढ़ें – पलामू: ग्रामीण बैंक ने ऋण चुकता करने के बाद भी समूह की महिलाओं को थमाया नोटिस

adv

सरकार पर अरबों रुपये का अतिरिक्त बोझ बढ़ने की भी हुई थी बात

बैठक में अधिकारियों और अभियंताओं ने मुख्यमंत्री को नया एसओआर बनाने में अभी और समय लगने की बात कही थी. बताया था कि निर्माण कार्य में प्रयुक्त होनेवाली विभिन्न सामग्रियों की बाजार दर का विश्लेषण करने में काफी समय लग रहा है.

यह विषय भी सामने आया कि नए एसओआर से दर में भी काफी इजाफा होगा. राज्य सरकार पर अरबों रुपए का अतिरिक्त बोझ बढ़ेगा. इसके बाद 2018 के एसओआर पर ही टेंडर कराने की सहमति बन गयी.

इसे भी पढ़ें – धनबाद पुलिस ने 4 साइबर अपराधी को रंगे हाथ किया गिरफ्तार

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button