JamshedpurJharkhand

Jamshedpur Power Cut : पारा 43 पार- उसपर बिजली कटौती की मार, जीएम कार्यालय का घेराव करने की तैयारी में लोग

Jamshedpur : चुनाव से पहले हर पार्टी लोगों को 24 घंटे बिजली देने की वायदे करती है. सत्ता संभालने के बाद हर मुख्यमंत्री जीरो पावर कट का आश्वासन देता है, लेकिन हर साल गर्मी का मौसम आते ही जनता बिजली कटौती झेलने को बाध्य हो जाती है. इस साल गर्मी का प्रकोप पिछले कुछ सालों की तुलना में ज्यादा है और बिजली का संकट भी उसी अनुपात में लोगों को झेलना पड़ रहा है. गर्मी के झुलसाते दिनों और उमस भरी रातों को आम जनता कैसे काटती है, इसका अंदाजा न तो नेताओं को होता है और न ही अधिकारियों को. उनके पास तमाम वैकल्पिक साधन उपलब्ध हैं. इस साल तो ऐसी हालत है कि झारखंड की शान और राज्य के सबसे बड़े व्यक्तिगत करदाता महेंद्र सिंह धोनी की पत्नी साक्षी धोनी को भी ट्वीट करना पड़ गया.
जमशेदपुर के गैर कंपनी इलाकों भी भारी बिजली संकट हैं. घंटों लोड शेडिंग की जा रही है. ग्रामीण इलाकों में तो हालत और खराब है. वहां मात्र 5 से 6 घंटा ही बिजली रह रही है. जमशेदपुर का तापमान 43 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया है. ऐसे में बिजली नहीं रहने से शहर औऱ ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को काफी परेशानी हो रही है. बिजली संकट को लेकर राष्ट्रीय सेवा समिति ने मंगलवार को झारखंड ऊर्जा विकास निगम के जीएम प्रतोष कुमार से मुलाकात कर बिजली आपूर्ति दुरुस्त करने की मांग की है. राष्ट्रीय सेवा समिति ने जीएम को बताया कि गर्मी के कारण लोग बीमार पड़ रहे है. रात में बच्चों की पढ़ाई पर असर हो रहा है. अभी आइसीएसइ बोर्ड की परीक्षाएं चल रही हैं. ऐसे में समस्या का समाधान नहीं होता है, तो संस्था की ओऱ से महाप्रबंधक कार्यालय का घेराव किया जायेगा. इधर जब न्यूजविंग ने इस बारे में गोविंदपुर ग्रिड के एसडीओ से जानकारी ली, तो बताया गया कि गोलमुरी ग्रिड को प्रतिदिन कुल 50 मेगावाट की बिजली की आवश्यकता है. लेकिन कुल 30 मेगावाट बिजली ही मिल रही है. इसक कारण गैरकंपनी इलाकों में इस तरह की परेशानी हो रही है. उन्होंने कहा कि इस समस्या का जल्द ही समाधान कर लिया जायेगा.

ये भी पढ़ें-  Jharkhand Panchayat Election : वार्ड मेंबर बनने में इस बार भी खास द‍िलचस्‍पी नहीं, पिछली बार जमशेदपुर सदर प्रखंड में 161 पद रह गये थे खाली

 

Related Articles

Back to top button