न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

फुलवारीशरीफ थाने में तेज प्रताप ने धरना दिया, थाना प्रभारी पर दुर्व्यवहार का आरोप

987

Patna: राष्ट्रीय जनता दल के विधायक और पूर्व स्वास्थ्य तेजप्रताप यादव ने गुरूवार को फुलवारीशरीफ थाना का घेराव करते हुए धरना दिया. आरजेडी सुप्रीमो के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने आरोप लगाया कि क्षेत्र में रहने वाली एक महिला की शिकायत के आधार पर जब उन्होंने थाना प्रभारी को फोन कर प्राथमिकी दर्ज करने के लिए कहा तो थाना प्रभारी सह पुलिस निरीक्षक ने टेलीफोन पर उनके साथ दुर्व्यवहार किया. इसके बाद तेजप्रताप समर्थकों के साथ थाने पहुंच गये, और इससे थाने में जमकर नाटकबाजी हुई.

‘थाना प्रभारी की बर्खास्तगी को लेकर लिखूंगा पत्र’

तेजप्रताप अपने सैकडों समर्थकों के साथ धरने पर बैठे और घोषणा की, ‘मैं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस मुंहजोर पुलिस निरीक्षक की बर्खास्तगी के लिए पत्र लिखूंगा.’ बागी तेवर रखने वाले नेता ने मीडियाकर्मियों को बताया कि उन्होंने थाना प्रभारी मोहम्मद कैसर आलम को राजद मुख्यालय से फोन मिलाया. इससे पहले एक महिला ने मुझसे संपर्क कर कहा था कि उसकी बहन के ससुराल वाले दहेज के लिए उसे परेशान कर रहे हैं.

समर्थकों की नारेबाजी के बीच बिहार सरकार के पूर्व मंत्री ने कहा, ‘जब मैंने निरीक्षक का नंबर लगाया तो उन्होंने मेरे साथ दुर्व्यवहार किया. पुलिस निरीक्षक ने कहा कि उसे नहीं पता कि तेज प्रताप यादव कौन है. शराब प्रतिबंधित होने के बावजूद थाने में शराब की बोतल दिखाई पड़ी है. ऐसे पुलिसकर्मियों को निश्चित तौर पर बर्खास्त किया जाना चाहिए.’

विधायक का नहीं आया फोन

हालांकि, थाना प्रभारी ने मीडिया को बताया कि उन्हें विधायक की ओर से कोई फोन नहीं आया. उन्होंने ये भी कहा कि वो प्राथमिकी दर्ज करने के लिए हमेशा तैयार हैं, लेकिन जब तक कोई लिखित में नहीं देता है, वो ऐसा नहीं कर सकते हैं. इधर महिला मंजू लता से जब पूछा गया कि क्या उसने राजद नेता से मदद मांगी थी तो वह इसका उत्तर नहीं दे सकी.

इसे भी पढ़ेंः कैग की रिपोर्ट से साबित होता है कंबल घोटाला, पर सरकार जांच के नाम पर कर रही लीपापोती, साल बीत गया, नहीं हुई कोई कार्रवाई

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: