BiharCrime News

गोपालगंज हत्याकांड को लेकर तेजस्वी का नीतीश सरकार से सवाल, पूछा- कब गिरफ्तार होंगे JDU विधायक पप्पू पांडेय

Patna: गोपालगंज हत्याकांड को लेकर आरजेडी कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस किया गया. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में तेजस्वी यादव और जगदानंद सिंह भी मौजूद रहे.

गोपालगंज ट्रिपल मर्डर केस को लेकर तेजस्वी ने एक बार फिर से नीतीश सरकार पर हमला बोला. उन्होंने हत्याकांड की जांच सही से नहीं होने व आरोपियों को सजा नहीं मिलने को लेकर बिहार सरकार से कई सवाल उठाए.

इसे भी पढ़ें- भारत-चीन सीमा विवादः क्या अब भी मोदी सरकार को बर्फ पिघलने का इंतजार है?

क्या कहा तेजस्वी ने

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान तेजस्वी ने बिहार कानून की विधि व्यवस्था पर सवाल उठाए. इस दौरान तेजस्वी ने हत्याकांड को लेकर कहा कि SIT गठित होने के बाद भी इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है. इस मामले को लेकर सरकार कब कदम उठायेगी. कब अपराधियों को सजा मिलेगी. जेडीयू विधायक पप्पू पांडे के खिलाफ सबूत होने के बाद भी सरकार क्यों नहीं कार्रवाई कर रही है.

तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार से कुछ सवाल पूछे. जिसमें उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार बताएं कि पप्पू पांडेय कब गिरफ्तार होंगे. पप्पू पांडेय आदतन अपराधी है. साथ ही पुलिस पप्पू पांडेय का तीन महीने का फोन कॉल डिटेल निकाले. उनके कॉल डिटेल की जांच की जाए कि उन्होंने इस तीन महीने में किन-किन लोगों से बात की है. साथ ही डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय पर निशाना साधते हुए तेजस्वी ने उनसे पूछा कि इस मामले में उन्होंने चुप्पी क्यों साध रखी है. वो चुप्पी तोड़ें और जवाब दें. अगर क्राइम करने वाला अपराधी है तो बचाने वाला भी अपराधी है.

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान आरजेडी नेता व पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि गोपालगंज हत्याकांड को लेकर अमरेंद्र पांडेय के खिलाफ कई साक्ष्य मौजूद हैं. साथ ही इस मामले में रामाश्रय सिंह कुशवाहा के भाई का वीडियो, बीजेपी नेता शिवकुमार उपाध्याय का वीडियो और अनिल तिवारी की भी वीडियो हैं. ये वीडियो हत्या से जुड़े हुए हैं. तेजस्वी ने कहा कि तीनों वीडियो विधायक पप्पू पांडेय से जुड़े हैं.

इसे भी पढ़ें- बिना आधार कार्ड नहीं कटेंगे बाल, इन नियमों का भी करना होगा पालन

क्या है मामला

दरअसल गोपालगंज के हथुआ थाना इलाके के रुपनचक गांव में अपराधियों ने  24 मई की रात RJD नेता जेपी यादव के घर में घुस गये और ताबडतोड़ फायरिंग की. इस फायरिंग में जेपी यादव के माता-पिता की मौत हो गयी थी. जबकि उनके भाई को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां 25 मई को इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया था.

वहीं जेपी यादव और उनके एक भाई पटना के पीएमसीएच में इलाजरत थे. तेजस्वी 26 मई को पीएमसीएम गये थे और जेपी का हाल जाना था. तेजस्वी को जेपी यादव ने बताया था कि वे स्थानीय जिला पार्षद क्षेत्र से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे. जिससे उन्हें खुद पर हमले की आशंका थी. इसे देखते हुए उन्होंने पहले ही पुलिस को सूचित भी किया था. लेकिन उनकी इस बात पर पुलिस ने ध्यान नहीं दिया.

जेपी यादव ने इस मर्डर के लिए JDU विधायक अमरेन्द्र कुमार पाण्डेय उर्फ पप्पू पांडेय, जिला परिषद अध्यक्ष मुकेश पांडेय के अलावा उनके पिता सतीश पांडेय पर आरोप लगाया था. जेपी ने ये बात तेजस्वी को भी 26 मई को पीएमसीएच में बतायी थी. जिसके बाद से ही पार्टी जेडीयू विधायक की गिरफ्तारी की मांग कर रही है.

इसे भी पढ़ें- दिल्ली LG अनिल बैजल के ऑफिस में कोरोना का कहर, 13 कर्मचारी संक्रमित

Advertisement

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close