न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लालू प्रसाद से मिलकर बाहर निकले तेज प्रताप ने कहा- पिताजी की हालत ठीक नहीं है

100

Ranchi : चारा घोटाला में सजायाफ्ता बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद से मिलने उनके बड़े बेटे तेज प्रताप मंगलवार को रिम्स पहुंचे. रिम्स के पेइंग वार्ड में पिता लालू प्रसाद यादव से मिलकर बाहर निकलने के बाद तेज प्रताप यादव ने कहा कि पापा की हालत ठीक नहीं है. उनके स्वास्थ्य में किसी प्रकार का कोई सुधार नहीं हो रहा है. जेल मैमुअल के अनुसार लालू प्रसाद से सिर्फ शनिवार को ही उनका कोई परिजन उनसे मुलाकात कर सकता है. मंगलवार को तेज प्रताप को अपने पिता से मिलने के लिए विशेष अनुमति दी गयी थी. तेज प्रताप और लालू प्रसाद के बीच ढाई घंटे तक मुलाकात हुई. मुलाकात के बाद बाहर निकलने पर तेज प्रताप काफी भावुक नजर आये. रिम्स के पेइंग वार्ड से बाहर निकलने पर उन्होंने कहा कि वह अपने पिताजी के स्वास्थ्य की जानकारी लेने आये थे. पिताजी की जांच कर रहे डॉक्टरों से मिलकर उनकी सेहत की जानकारी ली है. उन्होंने भावुकता भरे स्वरों में कहा कि वह अपने पिता से बहुत प्यार करते हैं, वह उनके लिए भगवान हैं. तेज प्रताप ने कहा, “पापा ने कहा है कि मजबूती के साथ सभी को एकजुट रहना है और पार्टी को आगे बढ़ाना है.”

पत्नी से लड़ाई कोर्ट में जारी रहेगी

पत्नी ऐश्वर्या से तलाक के संबंध में पूछे गये प्रश्न पर तेज प्रताप चुप्पी साध गये. हालांकि, इतना जरूर कहा कि यह मामला कोर्ट में है और अदालत में लड़ाई जारी रहेगी. तेज प्रताप सोमवार को ही पटना से रांची के लिए चले थे, लेकिन यात्रा के दौरान उनकी तबीयत बिगड़ने के कारण उन्हें जहानाबाद में रुकना पड़ा था. रांची पहुंचने के बाद तेज प्रताप सबसे पहले होटल पहुंचे और शाम में रिम्स के पेइंग वार्ड में जाकर अपने पिता से मुलाकात की. इस मुलाकात के बाद बाहर निकलने पर तेज प्रताप के चेहरे पर तनाव की झलक साफ तौर पर दिख रही थी. गौरतलब है कि चारा घोटाले के तीन मामलों में राजद सुप्रीमो रांची में सजा काट रहे हैं. उनकी तबीयत में बार-बार शिकायत आने के बाद रिम्स में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था, जिसके बाद बीते लगभग तीन महीने से रिम्स के पेइंग वार्ड में लालू प्रसाद का इलाज चल रहा है.

इसे भी पढ़ें- आदिवासी संगठनों ने की कोचांग घटना की सीबीआइ जांच की वकालत

इसे भी पढ़ें- 6th JPSC : PT हुए पूरे हो गये दो साल, तीन बार आया रिजल्ट, अध्यक्ष पद भी हो गया रिक्त, नहीं हो पायी…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: