Corona_UpdatesEducation & CareerJharkhandRanchi

आइसीयू में जोखिम भरी प्रतिनियुक्ति पर बिफरे शिक्षक

  • बिना सुरक्षा किट के ही कोविड सेंटरों पर ली जा रही शिक्षकों की सेवा
  • शिक्षक संघ ने मुख्य सचिव को लिखा पत्र

Ranchi : अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष विजेंद्र चौबे, महासचिव राममूर्ति ठाकुर व मुख्य प्रवक्ता नसीम अहमद ने कहा है कि राज्य में कोरोना संक्रमण से उत्पन्न परिस्थिति में शिक्षकों को विभिन्न अस्पतालों, कोविड एवं वैक्सीन केंद्रों, आईसीयू, कोविड जांच कैम्प, आइसोलेशन सेंटर आदि पर तिनियुक्त किया गया है.

इसमे दुखद पहलू यह है कि ऐसे जोखिम भरे स्थानों पर ड्यूटी करने वाले शिक्षकों को न तो पीपीई किट ही दी जा रही है ना ही अन्य किसी प्रकार की सुरक्षा सामग्री. यहां तक कि गंभीर रूप से बीमार और 50 वर्ष से अधिक आयु के शिक्षकों को भी इन कार्यों में लगाया गया है जबकि ऐसे लोगों के खुद संक्रमित होने की संभावना अधिक प्रबल होती है.

advt

वैसे भी विभिन्न जिलों में कई शिक्षक संक्रमित भी हो रहे है, कई शिक्षकों की जानें भी जा चुकी हैं. इससे राज्य के शिक्षकों में भय का माहौल व्याप्त है. भयावह स्थिति को देखते हुए शिक्षक अपने आप को असहाय समझ रहे हैं.

इसे भी पढ़ेःखादगढ़ा में नहीं हुआ सैंपल कलेक्शन, बिना टेस्ट के लौट गये लोग

अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ ने इसे कोरोना ड्यूटी मानकों के विरुद्ध बताते हुए आईसीयू में शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति नहीं करने की मांग की है, राज्य के मुख्य सचिव को प्रेषित पत्र में संघ ने सरकार से यह भी मांग की है कि गंभीर बीमारी से ग्रस्त एवं 50 वर्ष से अधिक आयु के शिक्षकों से कोविड सेवा न ली जाए, अन्य कोविड केंद्रों में प्रतिनियुक्त शिक्षकों को पीपीई किट अवश्य उपलब्ध कराई जाए.

कोविड ड्यूटी में सेवा दे रहे किसी शिक्षक या उनके परिवार के संक्रमित होने पर उनके इलाज की उच्च स्तरीय व्यवस्था राज्य सरकार करे और प्रतिनियुक्त शिक्षकों को 50 लाख के स्वास्थ्य बीमा की घोषणा की जाए.

संघ के प्रदेश अध्यक्ष बृजेन्द्र चौबे, महासचिव राम मूर्ति ठाकुर एवं मुख्य प्रवक्ता नसीम अहमद ने कहा है कि असुरक्षित माहौल में शिक्षकों की आईसीयू या कोविड केंद्रों पर प्रतिनियुक्ति संक्रमण को रोकने के वजाय इसे बढ़ाने वाला कदम साबित हो सकता है, इसलिए सेवा कार्य में जुटे शिक्षकों के व्यक्तिगत एवं पारिवारिक सुरक्षा के प्रति सचेत रहते हुए उन्हें आवश्यक सुविधा मुहैया कराई जाए.

इसे भी पढ़ेःकोविड-19 के 75 प्रतिशत नये मामले 10 राज्यों में

स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह में पूर्णतः बंद रहे राज्य के सभी स्कूल

कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए राज्य सरकार द्वारा घोषित दिनांक 22 से 29 अप्रैल तक के स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के निदेशों के आलोक में आज राज्य के सभी स्कूल पूर्णतः बंद रहे.

जारी गाइडलाइन के अनुसार गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग के जारी निदेश के अनुसार आज से स्वास्थ्य, आपदा प्रबंधन, जल संसाधन, विद्युत, पुलिस विभाग एवं राज्य ज़िला तथा प्रखंड स्तरीय प्रशासनिक कार्यालयों को छोड़कर सभी विभागों को 29 अप्रैल तक बंद रखा गया है, जिसका असर आज सभी जगह देखने को मिला.

इसे भी पढ़ेः‘लॉक डाउन’ की वजह से नहीं पहुंच पाये सफाई कर्मी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: