न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राष्ट्र निर्माण के शिल्पकार हैं शिक्षक : प्रो शमीमा खातून

एमएलए महिला कॉलेज लोहरदगा में शिक्षक दिवस समारोह धूमधाम से मना

208

Lohardaga : मधुसूदन लाल अग्रवाल महिला कॉलेज लोहरदगा में शिक्षक दिवस समारोह आयोजित किया गया। इस मौके पर छात्राओं ने कई सांस्कृतिक और मनोरंजक कार्यक्रम प्रस्तुत किए. मौके पर कॉलेज की प्रिंसिपल प्रो शमीमा खातून ने कहा कि शिक्षक राष्ट्र निर्माण के शिल्पकार हैं. इसलिए शिक्षक बनना बस नौकरी नहीं, निष्ठा और कर्तव्य बोध है. समाज में शिक्षक सबसे सम्माननीय होते हैं. इसलिए क्योंकि नई पीढ़ी को काबिल बनाकर और देश व समाज का भविष्य गढ़ने वाले होते हैं. शिक्षक बाकी सभी प्रोफेशनल्स को बनाता है.

हमारा घर हमारा पहला विद्यालय है. माता-पिता हमारे पहले शिक्षक हैं. हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए. हमारे संस्कार और आदर्श के बीज परिवार में ही बोए जाते हैं. डॉ राधाकृष्णन ने इसीलिए कहा था कि हर घर एक यूनिवर्सिटी है और माता-पिता शिक्षक. इंसान को इंसान बनाने का काम माता पिता और गुरु ही करते हैं.

इसे भी पढ़ें- 21 अगस्त को अपहृत प्रिया सिंह के भाई को गढ़वा पुलिस ने कहा-नौटंकी करते हो, 29 अगस्त को पलामू में मिली डेड बॉडी

hosp3

डॉ राधाकृष्णन के जीवन से प्रेरणा लें

कॉलेज के अध्यापकों ने कहा कि डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन आदर्श शिक्षक ही नहीं देश को चुनौतियों से उबारने, दो युद्धों में सशस्त्र सेनाओं का कुशल नेतृत्व करने और देश को सशक्त बनाने वाले राष्ट्रपति भी रहे. इन्होंने तुलनात्मक धर्म विज्ञान और दर्शनशास्त्र के अध्ययन अध्यापन और व्याख्यान से दुनिया भर में भारत के ज्ञान का गौरव बढ़ाया. 16 बार साहित्य का नोबेल पुरस्कार और 11 बार नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामित होना इनके असाधारण व्यक्तित्व और विद्वता का उदाहरण है. छात्राओं से अपील की गई कि वह व्यापक ज्ञान के लिए आगे आएं. डॉ राधाकृष्णन के जीवन से प्रेरणा लें.

प्रीति, सृष्टि, संध्या, खुशबू सहित अन्य छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों से प्रशंसा बटोरी. मौके पर प्राध्यापक प्रो राज किशोर प्रसाद, शशि प्रभा अग्रवाल मधुबाला अग्रवाल, मंजू खत्री, गीता प्रसाद, शशि गुप्ता, स्नेह कुमार, ब्रजकिशोर बड़ाईक, अवध किशोर मिश्रा, गीता कुमारी, चंद्रशेखर चांद मौजूद थे. कार्यक्रम के आयोजन में ऋषिका प्रजापति, राहत परवीन, मुस्कान गोयल, संजीदा खातून, सईदा फातिमा, गुलअफ्शा परवीन, सोनम, कोमल, शाहिदा गौहर, नुसरत परवीन, सोनाली मित्तल आदि ने योगदान किया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: