न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शिक्षक नियुक्ति परीक्षा : आखिर क्यों पांच घंटे में ही हटा लिया गया डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन नोटिस

465

Ranchi : राज्य में फर्जी नियुक्तियों का इतिहास रहा है. जेपीएससी और जेएसएससी की नियुक्तियों में धांधली भी सामने आ चुकी है. कई अधिकारियों पर तो आरोप भी साबित भी हो गये. अब स्नातकोत्तर प्रशिक्षित शिक्षक नियुक्ति का भी हाल कहीं इसी तरह न हो जाये, यह डर सताने लगा है. ऐसा इसलिए, क्योंकि कल तीन जुलाई को जेएसएससी ने स्नातकोत्तर प्रशिक्षित शिक्षक प्रतियोगिता परीक्षा-2017 की मुख्य परीक्षा के सफल अभ्यर्थियों के प्रमाणपत्रों की जांच के लिए पांच विषयों का प्रोग्राम जारी किया गया, लेकिन पांच घंटे के अंदर ही प्रोग्राम (प्रमाणपत्रों की जांच के कार्यक्रम ) को वेबसाइट से हटा लिया. ऐसा किया जाना पूरे मामले को सवालों के घेरे में खड़ा कर देता है. सफल अभ्यर्थियों की सूची और उनके प्रमाणपत्रों की जांच के कार्यक्रम को अचानक रात के 10 से 11 बजे के बीच हटा लिया गया. चौथे जेपीएससी की तर्ज पर इस नियुक्ति में भी कहीं योग्य अभ्यर्थियों के साथ अन्याय न हो जाये, यह कयास भी जेपीएससी और जेएसएससी के इतिहास को देखते हुए लगाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें-  मनरेगा : बकरी और मुर्गी का भी हक मार गये अधिकारी और बिचौलिये, डकार गये पौने तीन लाख रुपये

11 से 16 जुलाई तक होनी थी जांच

स्नातकोत्तर प्रशिक्षित शिक्षकों की नियुक्ति के लिए डॉक्यूमेंट जांच के लिए कार्यक्रम तय कर लिये गये थे. कार्यक्रम के अनुसार विभिन्न विषयों के लिए 11 से 16 जुलाई के अंदर डॉक्यूमेंट्स की जांच कर ली जानी थी. गणित के लिए 11 जुलाई, संस्कृत 12 जुलाई, फिजिक्स और केमिस्ट्री 13 जुलाई के अलावा अंग्रेजी के लिए 16 जुलाई को डॉक्यूमेंट्स की जांच होनी थी. जांच दो पालियों में होनी थी, पहली 11 बजे से और दूसरी 2 बजे से. लेकिन, अब इस सूची को जेएसएससी ने हटा लिया है.

इसे भी पढ़ें- रांचीः राजधानी की सड़कों पर दौड़ते हैंं ओवरलोडेड ऑटो हादसों को दे रहे खुला आमंत्रण

स्केलिंग में अंक बढ़ाकर नियुक्ति करने का मामला कोर्ट में, 60 अफसरों की नियुक्ति पर लटकी है तलवार

झारखंड में नियुक्तियों में गड़बड़ी की कई मिसालें हैं. चौथे जेपीएससी में उत्तीर्ण हुए 60 अफसरों पर अभी भी तलवार लटकी है. कोर्ट का फैसला आने के बाद इन 60 लोगों की नौकरी जा सकती है. चौथे जेपीएससी में नियुक्ति के लिए जिस स्केलिंग पद्धति को पैमाना बनाया गया था, उसको हाई कोर्ट में चुनौती दी गयी थी. इसको लेकर जेपीएससी भी मान चुका है कि स्केलिंग परिस्थितिवश की गयी थी. अब कोर्ट ने जेपीएससी से 24 जुलाई तक विशेषज्ञों की राय के शपथपत्र दायर करने को कहा है कि स्केलिंग पद्धति सही है या नहीं. इतना ही नहीं, दूसरे और तीसरे जेपीएससी की भी नियुक्तियां विवादों में रही थी. ऐसे में जेएसएससी द्वारा स्नातकोत्तर प्रशिक्षित शिक्षक प्रतियोगिता परीक्षा के सफल अभ्यर्थियों के प्रमाणपत्रों की जांच संबंधी कार्यक्रम की सूची जारी होने के पांच घंटे के अंदर ही वेबसाइट से हटा लिये जाने से योग्य उम्मीदवारों की उम्मीदों पर भी खतरा मंडराने लगा है.

इसे भी पढ़ें-  डीआइजी जैप के आदेश पर भी मेंस एसोसिएशन की शाखाओं के नहीं हुए चुनाव, पदाधिकारियों को करनी होगी…

देखें जारी पीडीएफ (जिसे बाद में हटा लिया गया), कहीं बाद में आपका रोल नंबर हटा न दिया जाये

शिक्षक नियुक्ति परीक्षा : आखिर क्यों पांच घंटे में ही हटा लिया गया डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन नोटिस

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: