न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

तौफीक हत्याकांड : दोस्तों से गांजा मांगने गया था तौफीक, विवाद हुआ और हो गयी हत्या

पुलिस ने तौफीक के चार दोस्तों को किया गिरफ्तार, दो अन्य आरोपियों की गरिफ्तारी के लिए छापामारी कर रही पुलिस

47

Ranchi : 26 अक्टूबर की रात हुई तौफीक अंसारी की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर लिया है. तौफीक अंसारी की हत्या में शामिल होने के आरोप में उसके चार दोस्तों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किये गये आरोपियों में विश्वनाथ उरांव (टोंकिटोली, लालपुर), देवजीत मुखर्जी (एम अली लेन, लालपुर), अंगद कुमार (लोअर वर्द्धमान कंपाउंड, लालपुर) और सुजीत कुमार (कोकर, आदर्श नगर) शामिल हैं. दो अन्य आरोपी गोल्डी और बाला अभी फरार हैं, जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापामारी कर रही है. पुलिस के मुताबिक, गिरफ्तार किये गये सभी चारों आरोपियों ने इस हत्याकांड में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर ली है. पुलिस ने बताया कि गांजा पीने के दौरान हुए विवाद के कारण तौफीक अंसारी की हत्या कर दी गयी थी.

इसे भी पढ़ें- लातेहार : पेड़ से लटका मिला प्रेमी जोड़े की लाश, सनसनी

गांजा मांगने को लेकर हुई थी हत्या

पुलिस द्वारा की गयी पूछताछ में आरोपी विश्वनाथ उरांव ने बताया कि वे सभी छह आरोपी आपस में दोस्त हैं. तौफीक से भी इन सभी की दोस्ती थी. सभी दोस्त (छह आरोपी दोस्त) गुरुवार की रात महेंद्र सिंह महिला कॉलेज के पुराने विवादित परिसर स्थित विश्वनाथ के घर पर थे. इसी दौरान तौफीक विश्वनाथ से गांजा मांगने गया. इस पर विश्वनाथ ने तौफीक से कहा कि तुमको रोज-रोज कौन फ्री में गांजा पिलायेगा. इस दौरान दोनों के बीच विवाद हो गया. सभी दोस्तों में गाली-गलौज शुरू हो गयी. तभी बाला नामक आरोपी ने अपना ड्रैगन चाकू तौफीक के पेट में घोंप दिया. सभी साथी नशे में थे. उन्हें लगा कि तौफीक बच गया. तो सभी साथियों को जेल हो जायेगी, इसलिए सबने मिलकर बाला का साथ दिया और तौफीक की हत्या कर दी. उसके बाद सभी मिलकर महेंद्र प्रसाद महिला कॉलेज जाने के रास्ते सुरभि पाठ मैन के पास सड़क पर मृतक तौफीक का शव रखकर फरार हो गये.

इसे भी पढ़ें- चर्चित मामलों का उद्भेदन करने में नाकाम रही रांची पुलिस, अपराधियों के हौसले हो रहे बुलंद

महेंद्र प्रसाद महिला कॉलेज में गार्ड था विश्वनाथ, लूट मामले में जा चुका है जेल

गौरतलब है कि हत्याकांड में शामिल होने का आरोपी विश्वनाथ उरांव महेंद्र प्रसाद महिला कॉलेज का निजी गार्ड था. विश्वनाथ इससे पहले भी लूट के मामले में दो बार जेल जा चुका है. उसका पहले से भी आपराधिक इतिहास रहा है.

पुराने परिसर में मिले हैं खून के धब्बे

palamu_12

तौफीक की हत्या गुरुवार की रात कॉलेज के पुराने विवादित परिसर में हुई थी. पुलिस को इस परिसर में ही खून के धब्बे मिले हैं. जबकि, गली में जहां तौफीक का शव मिला था, वहां से खून के धब्बे नहीं मिले थे. पुलिस को शव के पास से मृतक की स्कूटी भी मिली थी.

इसे भी पढ़ें- धुर्वा एसबीआई के पास एक व्यक्ति का शव बरामद, पुलिस जांच में जुटी   

छापामारी दल में ये पुलिस अधिकारी और पुलिसकर्मी थे शामिल

लालपुर थाना प्रभारी रमोद कुमार सिंह, लालजी यादव, उज्जवल कुमार सिंह, संजय चौधरी, जॉन टोपनो सहित अन्य पुलिसकर्मी शामिल थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: