World

भारत से दोस्ती चाहता है तालिबान, कहा- भारत-पाकिस्तान विवाद में उसे नहीं पड़ना

Kabul: अफगानिस्तान में शरिया कानून लागू करने के ऐलान के बीच तालिबान ने भारत संग अच्छे रिश्ते की वकालत की है. तालिबानी प्रवक्ता जैबिहुल्ला मुजाहिद ने कहा है कि हम भारत के साथ अच्छे और मजबूत रिश्ते बनाना चाहते हैं. मुजाहिद ने ये भी कहा कि भारत के तमाम राजनयिक अफगानिस्तान में एकदम सुरक्षित रहेंगे और किसी को डरने की जरूरत नहीं है.

 

इसे भी पढ़ें : सिल्वर स्क्रिन की राजकुमारी मनीषा कोइराला

एक तरफ तालिबान को भारत संग अच्छे रिश्ते चाहिए, वहीं दूसरी तरफ भारत की पाकिस्तान संग चल रही तल्खी पर उसे कुछ नहीं कहना है. तालिबान ने जोर देकर कहा है कि उसे भारत-पाकिस्तान विवाद में हस्तक्षेप नहीं करना है. दोनों देशों की आपसी समस्या है. तालिबान इसमें कोई भी भूमिका नहीं निभाएगा.

 

SIP abacus

क्या भारत तालिबान पर भरोसा कर सकता है या नहीं?

MDLM
Sanjeevani

पड़ोसी होने के नाते भारत ने हमेशा कहा है कि वो अफगानिस्तान में लोकतंत्र को सशक्त करने में और शांति स्थापित करने में अहम योगदान निभा सकता है. लेकिन तालिबान ने लगातार इस पहल का विरोध किया है. इसी वजह से जब तालिबान भारत संग अच्छे रिश्तों की बात करता है, तब उसकी नीयत पर कई तरह के सवाल खड़े हो जाते हैं.

 

मीडिया से बातचीत के दौरान तालिबान ने अफगानिस्तान के भविष्य पर भी विस्तार से बात की है. कहा कि तालिबान राज में भी महिलाओं को पढ़ने लिखने का मौका दिया जाएगा. वे बाहर जाकर काम भी कर पाएंगी. बस शर्तें हैं कि वे सभी महिलाएं शरिया कानून का सख्ती से पालन करेंगी. साथ ही उन्हें हिजाब जरूर पहनना होगा.

 

Related Articles

Back to top button