Lead NewsNationalWorld

तालिबान का फरमान, को-एड एजुकेशन पर लगाया बैन, छात्राओं को नहीं पढ़ा सकेंगे जेंटस टीचर

Kabul : अफगानिस्तान में तालिबान की हुकुमत के शुरू होते ही देश के नियमों में तेजी से बदलाव किए जा रहे हैं. तालिबान ने अपने रंग दिखाने शुरू कर दिये हैं. तालिबान ने अब पूरी तरह से कोएजुकेशन पर रोक लगा दी है. इसके साथ ही ये फरमान भी जारी किया है कि अब से जेंटस टीचर महिला स्टूडेंट्स को नहीं पढ़ा सकेंगे.

इसे भी पढ़ें :हरियाणा के एक और छोरे का पैरालिंपिक में कमाल, सुमित ने जैवलिन थ्रो में जीता गोल्ड

काबुल स्थित हवाई अड्डे के पास विस्फोट में मारे गये 7 लोग

Catalyst IAS
SIP abacus

बता दें कि अफगानिस्तान की राजधानी काबुल स्थित हवाई अड्डे के पास रविवार को फिर 2 धमाके हुए. ये धमाके अमेरिका के ड्रोन हमलों के जवाब में हुए. हमले में एक ही परिवार के बच्चों, महिलाओं समेत 7 लोगों की मौत हो गई तथा कई अन्य घायल हो गए.

MDLM
Sanjeevani

दूसरे ड्रोन हमले में हवाई अड्डे के बाहर विस्फोटक से भरी कार को निशाना बनाया गया. इसमें कार सवार आतंकी सहित 13 आतंकी मारे गए.

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार एक ड्रोन निशाने से चूककर काबुल हवाई अड्डे के निकट स्थित ख्वाजा बुगरा आवासीय इलाके पर गिरा. समाचार एजेंसी स्पुतनिक के अनुसार ड्रोन राजधानी में एक इमारत से टकराया जिसमें परिवार मारा गया.

ड्रोन हमलों को लेकर अमेरिका की रक्षा केंद्रीय कमान का कहना है कि काबुल में ये एयर स्ट्राइक आत्मरक्षा में की गईं तथा इनसे आईएस के वाहनों को तबाह किया गया.

इसे भी पढ़ें :कोरोना के डेल्टा वेरिएंट के कहर से अमेरिका में हालात बदतर, ऑक्सीजन की भी भारी कमी

मारे गए आईएस कई आतंकी

अमेरिकी अधिकारियों का दावा है कि उन्होंने आतंकियों के ठिकाने नष्ट कर दिए हैं जिनमें आईएस के कई आतंकी मार गिराए है. काबुल में किए गए हमलों में विस्फोटक से भरी कार को निशाना बनाया गया.

अमरीकी अधिकारियों ने कहा कि कार उड़ाकर हवाई अड्डे पर भीड़ को निशान बनाने की आईएस आतंकियों की कोशिश नाकाम कर दी गई. ड्रोन हमले में किसी नागरिक की मौत नहीं हुई है.

उन्होंने यह भी दावा किया कि हवाई अड्डे के बाहर घी के डिब्बों में छिपाकर रखा 70 किलो विस्फोटक बरामद किया गया तथा वहीं से 2 संदिग्धों को भी गिरफ्तार किया गया.

हमले के बाद तालिबान ने बैठक करके यह निर्णय लिया कि वह 31 अगस्त को समय सीमा समाप्त होने का बाद भी अफगानी नागरिकों को देश छोड़कर जाने की अनुमति देगा. तालिबान ने अमेरिका सहित 100 देशों को यह आश्वासन दिया.

इसे भी पढ़ें :नीतीश कुमार PM पद के उम्मीदवार नहीं, जदयू राष्ट्रीय परिषद की बैठक में प्रस्ताव पारित

Related Articles

Back to top button