न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

तेजप्रताप ने तेजस्वी से कहा – शिवहर प्रत्याशी फैसल के संबंध बीजेपी से, पार्टी कैसे जता रही भरोसा   

तेज प्रताप के परिवार और राजद के प्रति तल्ख टिप्पणी भी सामने आ रही है.

74

Patna : लालू यादव के परिवार की लड़ाई अब पूरी तरह से सड़क पर आ गयी है. लालू के दोनों बेटों के बीच की फूट भी आये दिन मीडिया में देखने को मिल रही है. तेज प्रताप के परिवार और राजद के प्रति तल्ख टिप्पणी भी सामने आ रही है. हालांकि इस बाबत तेजस्वी ने अबतक अपनी कोई टिप्पणी मीडिया के सामने नहीं दी है.

लालू यादव के जेल जाने का बाद से पार्टी और परिवार के फैसले लगभग तेजस्वी को ही लेते देखा गया है. ऐसे में तेजप्रताप ने लोकसभा चुनाव के पहले ही राजद से जहानाबाद और शिवहर इन दो सीटों की मांग रखी थी.

साथ ही तेजस्वी को भी कहा था कि इन दो सीटों को उन्हें दे दिया जाए. लेकिन तेज प्रताप की बात को पार्टी ने नजरअंदाज कर दिया. जिसके बाद से ही तेज प्रताप ने बगावती तेवर अख्तियार कर लिया.

दरअसल शिवहर सीट से आरजेडी ने फैसल अली को अपना उम्मीदवार बनाया है. जिसके बाद से लगातार तेज प्रताप मीजिया में कई तरह से बयान दे रहे हैं. एक बार फिर तेज प्रताप ने राजद से शिवहर सीट के प्रत्याशी पर विचार करने को कहा है.

इसे भी पढ़ें – हिंडाल्को मुरी हादसाः सिर्फ छह सेकेंड में आयी विनाशकारी आपदा का जानें पूरा सच

साथ ही तेजप्रताप ने फैसल अली पर आरोप लगाया है कि उनके बीजेपी नेताओं से घनिष्ठ संबंध हैं. साथ ही तेजप्रताप ने हाल में ही फैसल अली की बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी के साथ होली मनाते हुए तस्वीरें भी शेयर की थीं.

इसी को लेकर तेजप्रताप ने कहा है कि देश से नरेंद्र मोदी और सांप्रदायिक दंगों को दूर करने की जो बात कही जा रही है, ऐसे में फैसल अली पर राजद कैसे भरोसा कर सकती है.

इसे भी पढ़ें – प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का खुद पर नियंत्रण नहीं, प्रदेश की 80 इंडस्ट्रीज सबसे अधिक प्रदूषित, फिर भी कार्रवाई नहीं

पहले दिये बयान पर लिया यू टर्न

तेज प्रताप यही नहीं रूके उन्होंने पहले कही अपनी बातों पर भी यू टर्न ले लिया है. पहले तेजप्रताप ने तो अपने बगावती तेवर के दौरान यहां तक कहा था कि यदि पार्टी ने परिवार की पारंपरिक सीट से राबड़ी देवी को चुनाव नहीं लड़ाया, तब वे अपने ससुर चंद्रिका राय के खिलाफ सारण लोकसभा क्षेत्र से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे.

हालांकि यू टर्न लेते तेज प्रताप ने बाद में कहा था कि वे ना तो सारण से चुनाव लड़ेंगे और ना ही प्रचार करेंगे. साथ ही कहा था कि  कोई जीते, कोई हारे, इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता.

इसे भी पढ़ें- झारखंड में 15 लाख 4 हजार 408 मतदाताओं का अबतक नहीं बन पाया है वोटर आइडी

 

 

 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: