Lead NewsNationalSportsTEENAGERSTOP SLIDER

T20 World Cup: भारत-पाक मैच से पहले ही गरम हुआ माहौल, भिड़ गए श्रीलंका के गेंदबाज-और बांग्लादेश के बल्लेबाज, देखें VIDEO

बांग्लादेश ने श्रीलंका को जीत के लिए 172 रन बनाने का लक्ष्य दिया

Dubai : टी 20 वर्ल्ड कप में भारत-पाकिस्तान के बीच महामुकाबले से पहले ही माहौल गरम हो गया है. श्रीलंका के गेंदबाज-और बांग्लादेश के बल्लेबाज के बीच मैदान में पहली लड़ाई सामने आई है. श्रीलंका और बांग्लादेश के बीच टी 20 विश्व कप मैच में ये नजारा देखने को मिला. पहले बल्लेबाजी करने उतरी बांग्लादेश की टीम को छठे ओवर में तेज गेंदबाज लाहिरू कुमारा ने बड़ा झटका दिया.

लाहिरू ने सलामी बल्लेबाज लिटन दास को 16 रन पर आउट कर दिया. कुमारा की पिच-अप डिलीवरी पर कप्तान दसुन शनाका ने लिटन दास को कैच कर पवेलियन भेज दिया.

advt

विकेट लेने के तुरंत बाद लाहिरू लिटन दास के पास गए और उन्हें कुछ बोले. लाहिरू काफी नाराज लग रहे थे. बांग्लादेश के विकेटकीपर-बल्लेबाज को उनकी ये प्रतिक्रिया पसंद नहीं आई, फिर क्या था, दोनों खिलाड़ियों में जुबानी जंग शुरू हो गई. बात यहां तक पहुंच गई कि दोनों एक दूसरे के बेहद करीब आए और बहस करना शुरू कर दिया.

इसे भी पढ़ें : पति-पत्नी का विवाद सुलझाने गए एएसआई के साथ मारपीट

अंपायर और श्रीलंका के अन्य खिलाड़ियों ने किया बीच-बचाव

इससे पहले कि बात इससे आगे बढ़ती अंपायर और श्रीलंका के अन्य खिलाड़ियों ने बीच-बचाव करना शुरू कर दिया. अंपायरों ने भी दोनों क्रिकेटरों को अलग करने के लिए हस्तक्षेप किया. कमेंटेटरों ने प्रसारण चैनल स्टार स्पोर्ट्स पर कहा, यह वह नहीं है जो आप क्रिकेट के खेल में देखना चाहते हैं.

बहरहाल, मैच की बात की जाए तो श्रीलंका के कप्तान शनाका ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया. उन्होंने कहा, “हम पहले गेंदबाजी करने जा रहे हैं. हमारे गेंदबाज हमारे लिए अच्छा काम कर रहे हैं. आईपीएल के बाद, विकेट ऊपर-नीचे होता है, अनुमान नहीं लगा सकता कि यह क्या है, इसलिए हम गेंदबाजी करना चाहते हैं.” उन्होंने कहा, युवा अच्छा काम कर रहे हैं और वे बहुत आश्वस्त भी हैं. हमें चोट की चिंता है. महेश थीक्षाना बाहर हैं. बिनुरा फर्नांडो वापस आए हैं. बांग्लादेश ने 20 ओवर में 171 रन बनाये. श्रीलंका को जीत के लिए 172 रन बनाने का लक्ष्य दिया है.

इसे भी पढ़ें : फिल्म निर्माण सिर्फ मनोरंजन का साधन नहीं बल्कि भारतीय संस्कृति का वाहक है : डॉ करूणेश

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: