JharkhandLead NewsRanchi

राज्यसभा चुनाव को लेकर भाजपा प्रत्याशी पर सस्पेंस, रघुवर आलाकमान की पहली पसंद

Gyan Ranjan

Ranchi: झारखंड में जारी मौजूदा सियासी उठापटक के बीच भले ही राज्यसभा चुनाव की चर्चा थोड़ी कम हो रही है लेकिन राजनीतिक दलों में सूबे में खाली हो रही राज्यसभा सीटों को लेकर सक्रियता तेज है. 10 जून को राज्यसभा का चुनाव होना है. नामांकन की आखरी तारीख 31 मई है. 24 मई से नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा में अबतक प्रत्याशी को लेकर सस्पेंस बरकरार है. प्रदेश नेतृत्व के समक्ष कई नेताओं ने दावेदारी पेश की है. जानकारी के अनुसार भाजपा आलाकमान झारखंड से किसी बड़े चेहरे को राज्यसभा भेजना चाहती है और इसमें आलाकमान और प्रदेश नेतृत्व दोनों की पहली पसंद पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास बताये जा रहे हैं.

रघुवर के इनकार के बाद ही भाजपा में किसी दूसरे उम्मीदवार के नाम पर विचार किया जाएगा. रघुवर के करीबियों की मानें तो उनकी प्रत्याशी बनने में कोई रुचि नहीं है. हालांकि नेतृत्व का दबाव पड़ने पर वे इनकार की स्थिति में भी नहीं रहेंगे. प्रदेश नेतृत्व के समक्ष कई नेताओं ने दावेदारी पेश की है. जिसमें प्रमुख नाम प्रदेश महामंत्री प्रदीप वर्मा, आदित्य साहू, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष दिनेशानंद गोस्वामी, प्रदेश कोषाध्यक्ष दीपक बंका, प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव, हटिया विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी रही सीमा शर्मा का नाम शामिल है. लेकिन इन पर विचार रघुवर दास के बाद ही किया जाएगा. प्रत्याशी न बनने की स्थिति में रघुवर की राय भी अहम मानी जाएगी.

Catalyst IAS
SIP abacus

इसे भी पढ़ें : झारखंड: बिरसा हरित ग्राम योजना से लगाये गये 45 लाख फलदार व 18 लाख से अधिक टिंबर के पेड़

Sanjeevani
MDLM

प्रत्याशियों के नाम पर फैसला एक दो दिनों में

भाजपा के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक गुरूवार से जयपुर में चल रही है. यह बैठक शनिवार तक चलेगी. बताया जा रहा है कि झारखंड समेत अन्य राज्यों के राज्यसभा प्रत्याशियों पर सहमती इसी बैठक में बनेगी. जयपुर की बैठक में राज्यसभा चुनाव के साथ साथ राष्ट्रपति चुनाव पर भी भाजपा मंथन करेगी. झारखंड से इस बैठक में प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास, क्षेत्रीय संगठन महामंत्री नागेंद्र त्रिपाठी, संगठन महामंत्री धर्मपाल, एसटी मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष समीर उरांव और राष्ट्रीय मंत्री आशा लकडा शामिल हैं.

नकवी और महेश पोद्दार की सीट हो रही है खाली

झारखंड में जिन दो सीटों पर राज्यसभा का चुनाव हो रहा है वह सीट केंद्रीय मंत्री मुक्तार अब्बास नकवी और महेश पोद्दार का खाली हो रहा है. अभी यह दोनों ही सीट भाजपा के कब्जे में है. नकवी और पोद्दार का कार्यकाल 7 जून को समाप्त हो रहा है. आंकड़े के हिसाब से झारखंड में भाजपा का एक सीट कम हो रहा है. भाजपा के पास 26 विधायक हैं. एक सीट निकालने के लिए 27 विधायकों का समर्थन जरुरी है. जाहिर है भाजपा को अपनी एक सीट बचाने के लिए आजसू का समर्थन जरुरी है. आजसू के दो विधायक हैं. दो वर्ष पहले हुए राज्यसभा चुनाव में भी प्रत्याशी के तौर पर पहला नाम पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास का ही था लेकिन आजसू और निर्दलीय विधायक सरयू राय का समर्थन रघुवर को नहीं मिल रहा था.

तब आलाकमान ने प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश को प्रत्याशी बनाया. दीपक प्रकाश को आजसू के साथ साथ सरयू राय और निर्दलीय विधायक अमित यादव का भी साथ मिला और नतीजा यह हुआ कि भाजपा प्रत्याशी सबसे ज्यादा वोटों से जीती थी. जानकारी के अनुसार भाजपा आलाकमान इस बार पहले से ही आजसू को लेकर काम करना शुरू कर दी है. पिछले दिनों आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो दो दिनों के दिल्ली प्रवास पर थे. इस दौरान उनकी मुलाक़ात केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं से हुई थी. जानकारी के अनुसार सुदेश महतो के साथ भाजपा नेताओं की राज्यसभा चुनाव पर चर्चा हुई थी और दोनों दलों के बीच इसपर सहमती भी बन गयी है.

इसे भी पढ़ें : Bihar News : गया के नक्सल प्रभावित झारखंड के बॉर्डर वाले इलाके संग्रामपुर में दो युवकों की हत्या

नकवी और प्रदीप वर्मा भी हैं प्रबल दावेदार

रघुवर के आलावा भाजपा में नकवी और प्रदीप वर्मा को लेकर भी चर्चा है. जानकारी के अनुसार सबसे ज्यादा सीट यूपी में खाली हो रहा है. भाजपा यूपी में सबसे मजबूत है. कहा यह जा रहा है कि नकवी को इस बार यूपी के रास्ते राज्यसभा भेजने पर विचार हो रहा है. किसी कारणवश यदि नकवी को लेकर यूपी में बात नहीं बन पाती है तो उन्हें फिर से झारखंड से ही रिपिड किया जा सकता है. रघुवर के बाद सांसे पाबल उम्मीदवारी प्रदेश महामंत्री प्रदीप वर्मा की बतायी जा रही है. प्रदीप वर्मा को संघ का भी समर्थन है. साथ ही पार्टी के भीतर भी उनकी छवि बहुत अच्छी है.

 

Related Articles

Back to top button