न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सुशील मोदी का आरोप- बिहार के सबसे बड़े जमींदार लालू प्रसाद हैं

बिहार के उप - मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के परिवार के खिलाफ जमीन के अनियमित लेन - देन के ताजा आरोप लगाए और दावा किया कि पूर्व मुख्यमंत्री राज्य के ‘‘ सबसे बड़े जमींदार ’’ साबित हो रहे हैं.

2,006

Patna : बिहार के उप – मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के परिवार के खिलाफ जमीन के अनियमित लेन – देन के ताजा आरोप लगाए और दावा किया कि पूर्व मुख्यमंत्री राज्य के ‘‘ सबसे बड़े जमींदार ’’ साबित हो रहे हैं. भाजपा के वरिष्ठ नेता मोदी ने यहां संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि बिहार में जब राजद का शासन था, उस वक्त प्रसाद ने कई बैनामा के जरिए पटना के पास करीब 2.5 एकड़ की शानदार जमीन खरीदी थी.

20 हजार में की गयी जमीन की लीज

उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि कुछ साल पहले उस जमीन का पट्टा लालू प्रसाद के छोटे बेटे और पूर्व उप – मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के नाम कर दिया गया. यह ‘‘91 साल की अवधि ’’ के लिए किया गया जिस दौरान उस व्यक्ति को सालाना महज 20,000 रुपए की रकम अदा करनी होगी जिसके नाम पर लीज है. हाल के महीनों में लालू प्रसाद के परिवार पर कई ऐसे आरोप लगा चुके मोदी ने कहा , ‘‘1990 और 2005 के बीच, जिसे बिहार में लालू – राबड़ी शासनकाल भी कहा जा सकता है, 255 डेसिमल जमीन , जो करीब 2.5 एकड़ हुई, खरीदी गई. राजद सुप्रीमो के बड़े भाई के दामाद से जुड़े लोगों के पक्ष में क्रियान्वित डीड के जरिए जमीन खरीदी गई , जो यहां एक पशुविज्ञान कॉलेज में चतुर्थ श्रेणी के कर्मी थे.

इसे भी पढ़ें- रघुवर सरकार के चार साल में छह विस सीटों पर हुए उपचुनाव, अगला उपचुनाव कोलेबिरा सीट के लिए लगभग तय

कौन लाखों की जमीन खरीदकर किसी को कौड़ियों के भाव लीज पर दे देगा

सुशील मोदी ने कहा कि 13 जून 2012 को कुल छह लोगों के मालिकाना हक वाली जमीन के पूरे हिस्से की लीज तेजस्वी यादव के नाम कर दी गई. पट्टे की अवधि 31 मई 2101 को खत्म होगी यानी जब राजद के संभावित उत्तराधिकारी 110 साल के हो चुके होंगे. उन्होंने कहा कि समूची अवधि के लिए तेजस्वी की ओर से भुगतान किया जाने वाला सालाना किराया महज 20,000 रुपए तय किया गया है जबकि मौजूदा दरों के हिसाब से इसे पांच लाख रुपए से ज्यादा होना चाहिए था. सुशील मोदी ने कहा कि सवाल है कि कौन लाखों की जमीन खरीदकर उसे किसी को कौड़ियों के भाव लीज पर दे देगा ? साफ तौर पर राजद सुप्रीमो ने जमीन खरीदने के लिए अपना काला धन भेजा , दूर – दराज के रिश्तेदारों के नाम इसे पंजीकृत कराया ताकि आयकर के झमेलों से बच सकें और तब 91 साल की लीज के जरिए इसे अपनी कई पीढ़ियों के लिए सुरक्षित कर लिया.

इसे भी पढ़ें- जल, जंगल, जमीन किसी के लिए नारा होगा लेकिन यह हमारे लिए अमानत है : रघुवर दास

अंदाजा लगाना मुश्किल कि लालू ने कितनी जमीनें की हासिल : सुशील

भाजपा नेता ने कहा कि अब तो यह अंदाजा लगाना भी मुश्किल हो गया है कि राजद सुप्रीमो ने इस तरह से कितनी जमीनें हासिल की. ऐसे और भी मामले सामने आ सकते हैं. ऐसा लगता है कि खुद को गरीबों का नेता कहने वाले लालू प्रसाद बिहार के सबसे बड़े जमींदार के तौर पर सामने आते जा रहे हैं. सुशील ने कहा कि आयकर विभाग , सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय जैसी एजेंसियों को इस पर ध्यान देकर कार्रवाई करनी चाहिए. हम इन संपत्तियों के बारे में चुनाव आयोग को भी लिखेंगे जिसे परिवार के किसी सदस्य ने घोषित नहीं किया है. इराक में आईएसआईएस के आतंकवादियों द्वारा बिहार के कुछ लोगों को बंधक बना लिए जाने के बारे में पूछे जाने पर सुशील ने कहा कि यह ऐसा क्षेत्र है जहां पूरी तरह से गृह युद्ध हो रहा है. बहरहाल , केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार हजारों भारतीयों को सुरक्षित बचाने में कामयाब रही है. मुझे यकीन है कि बाकी लोगों को भी सुरक्षित स्वदेश लाया जाएगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: